S M L

पीएम मोदी का रूस दौरा: दोस्ती का नया चैप्टर शुरू, परमाणु ऊर्जा पर समझौता संभव

सम्मलेन में दोनों पक्ष कई परमाणु संयंत्र सहित अन्य समझौतों पर दस्तखत करेंगे

Bhasha | Published On: Jun 01, 2017 12:58 PM IST | Updated On: Jun 01, 2017 01:11 PM IST

पीएम मोदी का रूस दौरा: दोस्ती का नया चैप्टर शुरू, परमाणु ऊर्जा पर समझौता संभव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के साथ वार्षिक शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए बुधवार को सेंट पीटर्सबर्ग पहुंचे.

इस सम्मलेन में दोनों पक्ष कई समझौतों पर दस्तखत करेंगे जिनमें भारत के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र की अंतिम दो इकाइयों के लिए रूस की मदद से जुड़ा समझौता शामिल है.

प्रधानमंत्री मोदी खराब मौसम के बीच रूस पहुंचे. उन्होंने यहां पहुंचने के बाद ट्वीट किया, ‘ऐतिहासिक शहर सेंट पीटर्सबर्ग पहुंचा. लाभदायक यात्रा की उम्मीद करता हूं जिसका उद्देश्य भारत-रूस संबंधों को मजबूती प्रदान करना है.’

पिस्कारियोवस्कोई स्मारक जा कर करेंगे दौरे की शुरुआत

प्रधानमंत्री कल पिस्कारियोवस्कोई स्मारक पर दौरे के साथ अपनी तीन दिवसीय यात्रा शुरू करेंगे. इसे द्वितीय विश्व युद्ध में लेनिनग्राद पर हुए हमले के दौरान मारे गये करीब पांच लाख सैनिकों की स्मृति में बनाया गया था.

उसके बाद रुसी राष्ट्रपति पुतिन कोंस्टानटिन पैलेस में मोदी का स्वागत करेंगे जो राष्ट्रपति का आधिकारिक आवास है. सम्मेलन के बाद पुतिन मोदी के लिए एक निजी रात्रिभोज का आयोजन करेंगे जिसमें कोई अन्य सहयोगी नहीं होगा.

दोनों पक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी, रेलवे और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के साथ ही निजी पक्षों के बीच अन्य व्यावसायिक क्षेत्रों में 12 समझौतों पर दस्तखत कर सकते हैं. दोनों नेता एक संयुक्त ‘विजन डॉक्यूमेंट’ भी जारी करेंगे.

अंतरराष्ट्रीय आर्थिक मंच की बैठक में भी करेंगे शिरकत

शुक्रवार को मोदी वार्षिक सेंट पीटर्सबर्ग अंतरराष्ट्रीय आर्थिक मंच में विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत करेंगे. इसमें दुनियाभर के नेता और उद्योगपति शामिल होंगे.

यह पहली बार होगा कि कोई भारतीय प्रधानमंत्री रूस में आर्थिक और कारोबारी सम्मेलन में शामिल होगा. इसमें करीब 60 भारतीय कंपनियों के सीईओ भी शामिल होंगे.

परमाणु उर्जा संयंत्र के समझौते पर फैसला संभव

भारतीय अधिकारियों ने सम्मलेन से पहले पीटीआई को बताया कि तमिलनाडु में कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र की इकाई 5 और 6 के निर्माण के लिए रूस द्वारा लोन मुहैया करने के समझौते के विवरण और भाषा को लेकर अंतिम दौर की बातचीत चल रही है.

कुडनकुलम में संयंत्रों का निर्माण भारतीय परमाणु ऊर्जा निगम निगम लिमिटेड (एनपीसीआईएल) और रूसी परमाणु संयंत्रों की नियामक संस्था रोसाटॉम की सहायक कंपनी एटम्सस्ट्रॉय एक्सपोर्ट द्वारा किया जा रहा है.

अगर यह समझौता हो जाता है तो एक-एक हजार मेगावाट बिजली उत्पादन की क्षमता वाली दोनों इकाइयों द्वारा देश में परमाणु ऊर्जा के उत्पादन में महत्वपूर्ण वृद्धि होगी. फिलहाल देश के सभी 22 परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की कुल बिजली उत्पादन क्षमता 6780 मेगावाट है.

क्रेडिट प्रोटोकॉल के चलते अटका है मामला

इससे पहले अक्टूबर, 2016 में गोवा में हुए पिछले द्विपक्षीय सम्मेलन में भी परमाणु ऊर्जा चर्चा के केंद्र में था.

अक्टूबर, 2015 में मोदी और पुतिन के एक संयुक्त बयान में दिसंबर, 2016 तक परमाणु इकाइयों पर जनरल फ्रेमवर्क समझौते का वादा किया गया था. अंतर-मंत्रालयी समूह की मंजूरी के बाद इसे स्वीकृति के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय भेजा गया. लेकिन सूत्रों का कहना है कि रूस द्वारा दिया जाने वाला क्रेडिट प्रोटोकॉल (लोन) अवरोध साबित हो रहा है.

रूस में भारत के राजदूत पंकज सरण ने पीटीआई से कहा, ‘दोनों नेताओं के बीच आपसी विश्वास और तालमेल है जो पिछले तीन सालों में पनपा है.’ उन्होंने कहा कि गुरुवार को होने वाले सम्मेलन में दोनों नेता मौजूदा संबंधों का जायजा लेंगे और आगे की रूपरेखा पर बातचीत करेंगे.

बीजिंग और इस्लामाबाद से रूस की नजदीकियों से जटिल हुए सम्बन्ध

सोवियत संघ के समय से रूस के साथ बेहतरीन रहे भारत के पारस्परिक संबंध मॉस्को की बीजिंग और इस्लामाबाद के साथ बढ़ती आर्थिक और राजनीतिक साझेदारी की वजह से जटिल हो गये हैं. हालांकि राजदूत सरण ने कहा कि रूस के साथ भारत के संबंधों पर पाकिस्तान के साथ रूस के संबंधों का कोई प्रभाव नहीं है.

सरण ने यह भी कहा, ‘रूस के साथ हमारे रिश्ते एक अलग पायदान पर हैं और हमारे बीच एक समुचित एजेंडा है जो दोनों के लिए महत्वपूर्ण है. हमें अपनी चिंताओं और अहम सुरक्षा हितों की पूरी समझ है.’

दोनों देशों के बीच 7.8 अरब डॉलर का कारोबार है जिसमें 2014 की तुलना में कमी आई है. तब यह 10 अरब डॉलर था. दोनों देश अगले पांच साल में व्यापार को 30 अरब डॉलर पहुंचाने के लक्ष्य के साथ काम कर रहे हैं.

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi