S M L

30 दिन में नहीं दिया मेडिक्लेम, तो कंपनियों पर लगेगा जुर्माना

इरडा ने कहा कि यह निर्देश बीमाधारकों के हितों की रक्षा के लिए है.

Bhasha Updated On: Jul 14, 2017 03:28 PM IST

0
30 दिन में नहीं दिया मेडिक्लेम, तो कंपनियों पर लगेगा जुर्माना

इंश्योरेंस सेक्टर के नियामक इरडा ने मेडिक्लेम कंपनियों को क्लेम का 30 दिनों में निस्तारण करने का निर्देश दिया है और कहा है कि देरी होने पर उन्हें क्लेम की राशि पर बैंक रेट से दो प्रतिशत अधिक रेट पर ब्याज का भुगतान करना होगा. इरडा ने कहा कि यह निर्देश बीमाधारकों के हितों की रक्षा के लिए है.

इरडा ने एक अधिसूचना में कहा, ‘इंश्योरेंस कंपनी अंतिम जरूरी दस्तावेज मिलने की तारीख से 30 दिन के अंदर दावे का निस्तारण करेंगे. क्लेम के भुगतान में देरी होने की स्थिति में इंश्योरेंस कंपनी को अंतिम जरूरी दस्तावेज हासिल करने की तिथि से लेकर क्लेम के भुगतान की तिथि तक के लिए बैंक रेट से दो फीसदी अधिक रेट पर ब्याज का भुगतान करना होगा.’

इरडा की यह अधिसूचना इरडा पॉलिसी होल्डर प्रोटेक्शन- रेगुलेशन, 2017 के तहत जारी की गई है.

यह भी कहा गया कि क्लेम की प्रक्रिया में जहां बीमा कंपनी द्वारा जांच जरूरी हो उस स्थिति में यह कार्य अंतिम जरूरी दस्तावेज मिलने की तारीख से 30 दिन के अंदर जांच प्रक्रिया पूरी कर ली जानी चाहिए और ऐसे मामलों में अंतिम दस्तावेज मिलने की तारीख से 45 दिन के अंदर दावे का निस्तारण होना चाहिए.

रेगुलेटर ने कहा है कि बीमा क्लेम का निस्तारण करने में 45 दिन से अधिक समय लगने पर कंपनी को बैंक की ब्याज दर से दो प्रतिशत अधिक ब्याज का भुगतान करना होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi