विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

साल 2016-17 में सरकार ने जमा किया 17.10 लाख करोड़ रुपए का टैक्स

वित्त-वर्ष 2016-17 में तय लक्ष्य से ज्यादा 17.10 लाख करोड़ रुपये का टैक्स जमा हुआ है

Bhasha Updated On: Apr 04, 2017 03:20 PM IST

0
साल 2016-17 में सरकार ने जमा किया 17.10 लाख करोड़ रुपए का टैक्स

खत्म हुए वित्त-वर्ष 2016-17 में तय लक्ष्य से ज्यादा 17.10 लाख करोड़ रुपए का टैक्स जमा हुआ है. सरकार ने एक फरवरी 2017 को पेश 2017-18 के बजट में पिछले वित्त-वर्ष के लिये जमा टैक्स संग्रह में 16.97 लाख करोड़ रुपए रहने का संशोधित अनुमान लगाया है.

वित्त-मंत्रालय ने एक वक्तव्य में कहा है कि 17.10 लाख करोड़ रुपए का टैक्स संग्रह एक साल पहले के मुकाबले 18 प्रतिशत की बढ़त दर्शाता है. एक साल पहले 2015-16 में वास्तविक टैक्स प्राप्ति 14.55 लाख करोड़ रुपए की रही थी.

राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने कहा,  'कुल राजस्व संग्रह 18 प्रतिशत बढ़कर 17.10 लाख करोड़ रुपए हो गया. पिछले छह साल में यह सबसे ज्यादा है. प्रत्यक्ष कर संग्रह अप्रैल-मार्च अवधि में 14.2 प्रतिशत बढ़कर 8.47 लाख करोड़ रुपए, अप्रत्यक्ष कर संग्रह 22 प्रतिशत बढ़कर 8.63 लाख करोड़ रुपए हो गया.

मंत्रालय के अनुसार साल 2016-17 में निवल प्रत्यक्ष कर संग्रह 8.47 लाख करोड़ रुपए रहा है जो कि वर्ष के लिये रखे गये संशोधित अनुमान की शत प्रतिशत प्राप्ति है. इसी प्रकार मार्च 2017 तक अप्रत्यक्ष कर संग्रह संशोधित लक्ष्य का 101.35 प्रतिशत रहा है. अप्रत्यक्ष कर संग्रह के लिये 8.5 लाख करोड़ रुपए का संशोधित अनुमान लगाया गया.

साल के दौरान सकल राजस्व संग्रह के मामले में कंपनी कर प्राप्ति 13.1 प्रतिशत जबकि व्यक्तिगत आयकर में 18.4 प्रतिशत की वृद्धि रही. हालांकि, रिफंड समायोजन के बाद कंपनी कर में बढ़ोत्तरी 6.7 प्रतिशत और व्यक्तिगत आयकर में 21 प्रतिशत की रही है.

वर्ष के दौरान अप्रैल 2016 से मार्च 2017 के बीच कुल 1.62 लाख करोड़ रुपए का रिफंड जारी किया गया. यह एक साल पहले इसी अवधि में किये गये रिफंड से 32.6 प्रतिशत अधिक रहा.

अप्रत्यक्ष करों में केन्द्रीय उत्पाद शुल्क संग्रह 33.9 प्रतिशत बढ़कर 3.83 लाख करोड़ रुपए और सेवाकर की प्राप्ति 20.2 प्रतिशत बढ़कर 2.54 लाख करोड़ रुपए रही. सीमा शुल्क प्राप्ति एक साल पहले के मुकाबले 7.4 प्रतिशत बढ़कर 2.26 लाख करोड़ रुपए की रही.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi