S M L

आईटी सेक्टर में बड़े पैमाने पर छंटनी होने जा रही है: सरकार

क्लाउड कंप्यूटिंग, बिग डाटा और डिजिटल पेमेंट व्यवस्था के उदय के बाद आईटी सेक्टर में जॉब का स्वरूप बदलाव से गुजर रहा है

Bhasha | Published On: May 16, 2017 06:58 PM IST | Updated On: May 16, 2017 06:58 PM IST

0
आईटी सेक्टर में बड़े पैमाने पर छंटनी होने जा रही है: सरकार

आईटी सेक्टर में छंटनी के मंडराते बादल के बीच सरकार ने कहा कि आईटी उद्योग ने उसे भरोसा दिया है कि इस क्षेत्र में बड़े पैमाने पर छंटनी नहीं होगी. यह क्षेत्र 8-9 फीसदी की दर से बढ़ कर रहा है.

आईटी सचिव अरूणा सुंदरराजन ने कहा कि कुछ ऐसे मामले हो सकते हैं जहां कर्मचारियों की सालाना मूल्यांकन प्रक्रिया में कंपनियां उनका अनुबंध आगे न बढ़ाएं. इसके अलावा आईटी उद्योग में इस समय क्लाउड कंप्यूटिंग, बिग डाटा और डिजिटल भुगतान व्यवस्था के उदय के बाद रोजगार का स्वरूप बदलाव से गुजर रहा है.

मंगलवार को ब्रॉडबैंड इंडिया फोरम के मौके पर उन्होंने कहा, ‘छंटनी की चर्चाओं में जिन कंपनियों के नाम लिए जा रहे उनमें इस साल ऐसी कोई बड़ी बात नहीं होने जा रही है.’ सुंदरराजन ने कहा, ‘वाषिर्क मूल्यांकन के तहत कुछ लोगों का अनुबंध रिन्यू नहीं किया गया हो. लेकिन यह मान लेना बिल्कुल गलत है कि अचानक इस साल बड़े पैमाने पर छंटनी हो रही है.’

infosys

आईटी सेक्टर 8-9 फीसदी की दर से बढ़ रहा

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सरकार को इस बारे में आईटी उद्योग से साफ तौर पर भरोसा मिला है. उन्होंने कहा कि आईटी उद्योग 8 से 9 फीसदी की दर से बढ़ोतरी कर रहा है. यह मानने का कोई कारण नहीं है कि बढ़ोतरी नाटकीय ढंग से घटने जा रही है.

उन्होंने कहा कि आईटी सेक्टर नए लोगों को नौकरियां देना जारी रखेगा और उसने पिछले ढाई साल में पांच लाख नौकरियां दी हैं. इस मुद्दे को समग्रता से देखने की जरूरत है.

दरअसल पिछले कुछ हफ्ते से आईटी सेक्टर में बड़े पैमाने पर छंटनी की खबरें आ रही हैं. विप्रो, इंफोसिस, कोग्निजेंट और हाल में टेक महिंद्रा ने कर्मचारियों की वाषिर्क कामकाज समीक्षा शुरू की है. जिसमें काम के मामले में घटिया और बेकार पर्फामेंस करने वाले कर्मचारियों की छंटनी की संभावना रहती है.

ऐसे में यह आशंका बनने लगी है कि आईटी सेक्टर में कंपनियां अगले कुछ हफ्ते में हजारों कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा सकती हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi