विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

नासिक बना दूसरा गोरखपुर, सिविल अस्पताल में 55 बच्चों की मौत

महाराष्ट्र के नासिक में मौजूदा स्थितियों पर गौर करें, तो यहां के हालात इसे बच्चों की मौतों के मामले में दूसरा गोरखपुर बनाते हैं

FP Staff Updated On: Oct 16, 2017 11:22 AM IST

0
नासिक बना दूसरा गोरखपुर, सिविल अस्पताल में 55 बच्चों की मौत

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में हर साल की तरह इस साल भी सैकड़ों बच्चों की मौत हुई है. 2017 में अब तक 500 से ज्यादा बच्चों की मौत सरकारी अस्पतालों में हो चुकी है. वहीं अगर महाराष्ट्र के नासिक में मौजूदा स्थितियों पर गौर करें, तो यहां के हालात इसे बच्चों की मौतों के मामले में दूसरा गोरखपुर बनाते हैं.

इंडियन एक्सप्रेस पर छपी खबर के मुताबिक, नासिक सिविल अस्पताल के एसएनसीयू (स्पेशल न्यूबॉर्न केयर यूनिट) अगस्त के महीने में 55 नवजात बच्चों की मौत हुई है. अधिकारियों के मुताबिक, यहां ये आंकड़ा इसलिए बढ़ा है, क्योंकि यहां बड़ी संख्या में बीमार नवजात बच्चों को भर्ती कराया गया था. अगस्त में 346 बच्चों भर्ती हुए, जिनमें से ज्यादातर का वजन औसत से कम था.

अधिकारियों के मुताबिक, एसएनसीयू की शुरुआत 2013 में हुई थी. अस्पताल के आंकड़ों के मुताबिक, 2016-17 में 15,984 बच्चे पैदा हुए. जिनमें से 4,170 को एसएनसीयू में भर्ती कराया गया और 1,472 बच्चों की मौत हुई. अस्पताल के मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डॉक्टर कुलवल का कहना है कि हर महीने एसएनसीयू में 250 बच्चों को भर्ती करते थे.

हालांकि इस साल एसएनसीयू में करीब 199 बच्चे भर्ती किए गए. कुलवल ने कहा कि इनमें से 21 बच्चों की मौत हो गई थी, क्योंकि जब इन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उस वक्त पर इनकी हालत बेहद गंभीर बनी हुई थी.

आपको बता दें कि अकोला जिले के एसएनसीयू में 48 बेड हैं और राज्य सरकार 20 और बेड मुहैया कराएगी. हालांकि इस सब के बावजूद यहां एक भी वेंटीलेटर नहीं है. यहां तक की 48 बेड वाले इस एसएनसीयू में कम से कम 40 नर्सों का स्टाफ होना चाहिए. लेकिन यहां सिर्फ 24 स्टाफ नर्स, 9 मेडिकल ऑफिसर (इनमें भी 4 पद खाली हैं) और तीन बच्चों के डॉक्टर हैं.

अकोला के महिला अस्पताल की मेडिकल सुप्रीटेंडेंट डॉक्टर अराती कुलवल ने कहा कि हम मृत्यु दर को नीचे लाने में कामयाब रहे हैं. जहां 2013-14 में मृत्यु दर 18 फीसदी थी, वहीं 2016-17 में ये 10.86 फीसदी पर पहुंच गई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi