S M L

गिलानी नहीं चाहते सेना के 'गुडविल' स्कूलों में पढ़ें कश्मीरी बच्चे

हुर्रियत ने अभिभावकों से कहा है कि वे अपने बच्चों को गुड़विल स्कूलों में न भेजें.

Bhasha | Published On: May 06, 2017 10:29 AM IST | Updated On: May 06, 2017 10:30 AM IST

गिलानी नहीं चाहते सेना के 'गुडविल' स्कूलों में पढ़ें कश्मीरी बच्चे

कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी नहीं चाहते हैं कि कश्मीरी बच्चे शिक्षा के लिए सेना द्वारा संचालित 'गुडविल' स्कूलों में जाएं. माना जा रहा है कि गिलानी को ऐसा लग रहा है कि इस पर छात्र अपने धर्म तथा संस्कृति से दूर हो जाएंगे.

इसी के चलते हुर्रियत ने अभिभावकों से कहा है कि वे अपने बच्चों को गुड़विल स्कूलों में न भेजें. वहीं दूसरी ओर सेना ने शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए पूरे कश्मीर खासकर ग्रामीण इलाकों में ऐसे स्कूल खोले हैं और बड़ी संख्या में स्थानीय छात्र इन स्कूलों में पंजीकृत हैं.

गिलानी ने एक बयान में कहा है कि छोटे-मोटे भौतिक फायदे के लिए हमारी पीढ़ी हमारे हाथों से निकलती जा रही है. सेना द्वारा संचालित ये स्कूल हमारे बच्चों को अपने धर्म और संस्कृति से दूर कर रहे हैं.

इससे पहले एसपी कॉलेज में प्रदर्शन कर रहे छात्रों और सुरक्षा बलों के बीच झड़प हुई थी. एक पुलिस अधिकारी ने बताया था कि छात्रों का एक समूह मौलाना आजाद मार्ग पर एसपी कॉलेज से विरोध मार्च निकालने की कोशिश कर रहा था, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया था. तभी कुछ छात्रों ने पथराव शुरू कर दिया जिस कारण पुलिस कर्मियों एवं अन्य सुरक्षा बलों को उन्हें रोकने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा.

जबकि पुलवामा में 15 अप्रैल को कथित तौर पर सुरक्षा बलों की मनमानी के मद्देनजर घाटी भर में छात्रों के प्रदर्शन के बाद प्राधिकारियों ने एहतियाती तौर पर कश्मीर में सभी बड़े शैक्षिण संस्थानों को बंद कर दिया था और करीब पांच दिनों के लिए बंद कर दिया था.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi