S M L

ईरान से आए एलपीजी से देश में जलेगा 'चूल्हा'

भारत अपनी घरेलू मांग को पूरा करने के लिये रसोई गैस के अतिरिक्त स्रोत पर ध्यान दे रहा है

Bhasha Updated On: May 10, 2017 08:10 PM IST

0
ईरान से आए एलपीजी से देश में जलेगा 'चूल्हा'

एलपीजी की बढ़ती घरेलू मांग को देखते हुए भारत ने ईरान से एलपीजी आयात का निर्णय लिया है. भारत ने इसके लिए पहली बार ईरान से अनुबंध पर दस्तखत किए हैं. भारत अपनी घरेलू मांग को पूरा करने के लिये रसोई गैस के अतिरिक्त स्रोत पर ध्यान दे रहा है.

उद्योग से जुड़े सूत्रों ने बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां शुरू में छह महीने के लिये हर महीने 44 हजार टन एलपीजी का इंपोर्ट करेंगी.

भारत बढ़ती मांग को पूरा करने के लिये हर महीने लगभग 10 लाख टन एलपीजी का आयात करता है. सरकार की गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिये जाने से भी रसोई गैस की मांग बढ़ी है.

REUTERS

केंद्र सरकार उज्जवला योजना के तहत देश में गरीब महिलाओं को मुफ्त रसोई गैस दे रही है (फोटो: रॉयटर्स)

2016-17 में एलपीजी की खपत 9.8 फीसदी बढ़ी

2016-17 में एलपीजी की खपत 9.8 फीसदी से बढ़कर 2.16 करोड़ टन रही. इसमें से 1.1 करोड़ टन मात्रा का आयात किया गया. भारत मुख्य रूप से पश्चिम एशिया के बड़े उत्पादकों सउदी अरामको, कतर के तसवीक, अबू धाबी की नेशनल ऑयल कंपनी और कुवैत पेट्रोलियम कारपोरेशन से एलपीजी आयात करता है.

सूत्रों के अनुसार एलपीजी आयात अगले तीन साल में बढ़कर 1.6 से 1.7 करोड़ टन हो जाएगा. इसका कारण सरकार का गरीब परिवार को रसोई गैस उपलब्ध कराने के लिये कदम उठाना है.

भारत बांग्लादेश से भी एलपीजी के आयात पर विचार कर रहा है. पिछले साल मई में सरकार ने गरीब महिलाओं को मुफ्त में रसोई गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने का कार्यक्रम शुरू किया. जिसका मकसद लकड़ी और अन्य प्रदूषण फैलाने वाले ईंधन के इस्तेमाल पर रोक लगाना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi