S M L

डीयू एडमिशन 2017: दूसरी कटऑफ के बाद भी दिल्ली के छात्रों को लाभ नहीं

दिल्ली यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों की माने तो छात्र तीसरी कटऑफ का इंतजार न करें

Ravishankar Singh Ravishankar Singh | Published On: Jul 04, 2017 07:03 PM IST | Updated On: Jul 04, 2017 07:03 PM IST

0
डीयू एडमिशन 2017: दूसरी कटऑफ के बाद भी दिल्ली के छात्रों को लाभ नहीं

दिल्ली यूनिवर्सिटी में दूसरी कटऑफ के बाद दाखिले का अंतिम दिन मंगलवार है. दूसरी कटऑफ में गिरावट के बाद भी दिल्ली के छात्रों को फायदा होता नहीं दिख रहा है. पहली कटऑफ निकलने के बाद किसी वजह से जिन छात्रों ने दाखिला नहीं लिया था उनके लिए 4 जुलाई को दाखिले के लिए अंतिम अवसर मिलेगा.

पिछले चार-पांच साल के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली के छात्र दाखिला लेने में पिछड़ते जा रहे हैं. सीबीएसई बोर्ड के अन्य क्षेत्रों के छात्रों का दबदबा दिल्ली यूनिवर्सिटी में लगातार बढ़ता ही जा रहा है.

सीबीएसई के मुताबिक इस साल बारहवीं में 95 प्रतिशत अंक पाने वाले 10 हजार 91 छात्र और 90 प्रतिशत अंक पाने वाले 63 हजार 247 छात्र हैं. इनमें 10 हजार दिल्ली के छात्रों को ही 90 फीसदी से अधिक अंक मिले हैं.

इन 10 हजार छात्रों में से लगभग 80 प्रतिशत छात्र निजी स्कूलों में पढ़ने वाले हैं. ऐसे में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों का पास प्रतिशत तो अच्छा है. लेकिन, कटऑफ उन छात्रों से काफी दूर है. यही हाल बिहार यूपी से आए छात्रों का हो रहा है.

ये भी पढ़ें: डीयू एडमिशन: दूसरी कटऑफ के बाद ऐसे पाएं दाखिला

छात्र तीसरी कटऑफ का इंतजार न करें

दिल्ली यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञों की माने तो छात्र तीसरी कटऑफ का इंतजार न करें. छात्रों को जिस किसी कॉलेज में दाखिला मिले उसमें ले लेना चाहिए. डीयू की छात्र कल्याण विभाग की डिप्टी डीन डॉ अमृता बजाज ने फर्स्टपोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहती हैं, ‘छात्रों की तीसरी कटऑफ लिस्ट का इंतजार नहीं करना चाहिए. कई कॉलेजों में तीसरी कटऑफ लिस्ट आने से पहले ही दाखिले बंद हो सकते हैं. छात्रों के लिए कॉलेज से अधिक कोर्स को ज्यादा तबज्जो देना चाहिए.

हम आपको बता दें कि इस साल दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रों के पसंदीदा पाठ्यक्रमों में बीए प्रोग्राम, अंग्रेजी ऑनर्स, बीकॉम ऑनर्स, अर्थशास्त्र ऑनर्स, राजनीतिक विज्ञान और बीएससी कंप्यूटर साइंस शामिल है. दिल्ली विश्वविद्यालय के कई कॉलेजों में खासकर अर्थशास्त्र में दाखिले को लेकर मारामारी चल रही है. दिल्ली कॉलेज के 38 कॉलेजों में अर्थशास्त्र ऑनर्स की पढ़ाई होती है. इनमें से सिर्फ 9 कॉलेज ही ऐसे हैं जहां पर 95 प्रतिशत से कम पर सीटें उपलब्ध हैं.

Students-3

सीटें बहुत तेजी से भर रही हैं

दिल्ली यूनिवर्सिटी में अभी और कटऑफ लिस्ट जारी होंगे. लेकिन, दिल्ली के अच्छे कॉलेजों में सीटें लगातार भर रही हैं. जिससे बाद में छात्रों को उस कॉलेज में दाखिले लेने में काफी दिक्कत हो सकती है.

दिल्ली के अरविंदो जैसे कॉलेज में सोमवार तक लगभग 700 छात्रों ने दाखिला लिया था. सिर्फ सोमवार को ही 167 छात्रों ने दाखिला लिया था. अरविंदो कॉलेज में इस साल कुल एक हजार 10 सीटें हैं. और तो और इस साल दिल्ली के कई अच्छे कॉलेजों में भी दाखिले नहीं के बराबर हो रहे हैं.

विज्ञान के अच्छे कॉलेजों में शामिल आर्यभट्ट कॉलेज में सोमवार तक सिर्फ 60 छात्रों ने ही दाखिला लिया था. हैरानी की बात यह है कि पहली कटऑफ के बाद आर्यभट्ट कॉलेज में सिर्फ 2 छात्रों ने ही दाखिला कराया था. जबकि, 58 छात्रों ने दूसरी कटऑफ जारी होने के बाद दाखिला कराया था. राज्यों के हिसाब से डीयू में सबसे ज्यादा दिल्ली के छात्र दाखिला चाहते हैं.

दिल्ली के करीब सवा लाख छात्रों ने आवेदन किया था. दूसरा स्थान उतर प्रदेश के छात्रों का था. हरियाणा तीसरे और बिहार चौथे स्थान पर था. पिछले दिनों ही दिल्ली विधानसभा में दिल्ली सरकार से जुड़े 28 कॉलेजों में दिल्ली के छात्रों के लिए 85 पर्सेंट सीटें रिजर्व करने का प्रस्ताव पास किया गया था.

दिल्ली सरकार ने एक प्रस्ताव में केंद्र सरकार से मांग की थी कि दिल्ली यूनिवर्सिटी ऐक्ट में संशोधन कर दिल्ली सरकार की यूनिवर्सिटीज को भी कॉलेज एफिलिएट करने का अधिकार दिया जाए ताकि दिल्ली के स्टूडेंट्स के लिए ज्यादा सीटें हों. जिसका बाद में विश्वविद्यालय प्रशासन ने विरोध किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi