S M L

हाईकोर्ट ने थरुर की अर्जी की खारिज, रिपब्लिक टीवी पर लगाए थे आरोप

थरूर ने आरोप लगाया है कि चैनल के आश्वासन के बावजूद भी वे उनकी मानहानि में लगे हुए हैं

Bhasha Updated On: Sep 08, 2017 07:14 PM IST

0
हाईकोर्ट ने थरुर की अर्जी की खारिज, रिपब्लिक टीवी पर लगाए थे आरोप

दिल्ली हाईकोर्ट ने सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में कोई खबर प्रसारित करने या डिबेट आयोजित करने से टीवी पत्रकार अर्नब गोस्वामी और उनके चैनल रिपब्लिक टीवी को रोकने से शुक्रवार को इनकार कर दिया है.

अदालत ने क्या कहा

अदालत ने जिक्र किया है कि कांग्रेस नेता ने ऐसा कोई कानून नहीं दिखाया जिससे यह साबित हो कि पत्रकार जांच नहीं कर सकते है. जस्टिस ने कहा की ‘मुझे दिखाइए कि सुनवाई की पहली तारीख (29 मई) के बाद उसने आपको हत्यारा कहा है.’

जस्टिस ने ये भी कहा, ‘मैं ये आदेश नहीं दे सकता कि किसी समाचार चैनल की क्या संपादन नीति होनी चाहिए.’ अदालत ने कहा, ‘इस समय (कोई अंतरिम आदेश) नहीं.’ इसके अलावा कोर्ट ने गोस्वामी, रिपब्लिक टीवी को आदेश दिया कि वे थरूर की याचिका पर जवाब दें.

कांग्रेस नेतृत्व ने लगाए आरोप

थरूर ने याचिका में ये कहा है कि गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी को निर्देश दिया जाए कि वे थरुर के खिलाफ किसी भी तरह से कोई मानहानि वाली बात न कहें.

कांग्रेस नेतृत्व ने आरोप लगाया है कि सुनवाई की पिछली तारीख 16 अगस्त के बाद पत्रकार और रिपब्लिक चैनल ने गलत रिपोर्टिंग करनी जारी रखी और चार सितंबर को उनकी पत्नी की मौत के संबंध में आठ घंटे तक कार्यक्रम का प्रसारण किया.

सुनंदा की मौत पर खबर दिखाते समय कथित मानहानिकारक टिप्पणियों के लिए गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी के खिलाफ दायर लंबित दो करोड़ रुपए के दीवानी मानहानि मामले में थरूर ने अपने वकील गौरव गुप्ता के जरिए ताजा आवेदन दायर किया है.

वरिष्ठ वकील संदीप सेठी ने क्या कहा

गोस्वामी और उनके चैनल की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील संदीप सेठी ने थरूर के ताजा आवेदन का ये कहकर विरोध किया कि ‘खबर दिखाते समय हमने कोई आरोप नहीं लगाए हैं’ सुनंदा 17 जनवरी 2014 की रात साउथ दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में मरी हुई मिली थी. मामले में अब भी जांच चल रही है.

हाईकोर्ट में दायर अपने हलफनामे में पत्रकार और चैनल ने कहा कि उन्होंने न तो कभी थरूर की ‘निंदा’ की है और न ही यह कहा है कि वह अपनी पत्नी की मौत के मामले में शामिल हैं.

उन्होंने इस बात से भी इनकार किया है कि पत्रकार या चैनल ने थरूर को अपनी पत्नी का ‘हत्यारा’ कहा जैसा कि कांग्रेस सांसद ने आरोप लगाया है.

थरूर ने आरोप लगाया है कि गोस्वामी और चैनल के वकील ने 29 मई को अदालत में आश्वासन दिए जाने के बावजूद वे उनकी (थरूर) ‘मानहानि और छवि खराब करने में’ लगे हुए हैं.

कांग्रेस नेता ने पत्रकार और चैनल को ये बोला है कि वे कहीं भी ‘सुनंदा पुष्कर की हत्या’ अभिव्यक्ति का जिक्र न करें क्योंकि ये अदालत तय करेगा की सुनंदा की मौत हत्या थी या नहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi