S M L

केजरीवाल मानहानि मामला: फिर आमने-सामने होंगे जेठमलानी-जेटली

इससे पहले इन दोनों के बीच बहस बेहद गरमागरम और रोचक रही है

FP Staff | Published On: May 15, 2017 12:04 PM IST | Updated On: May 15, 2017 12:05 PM IST

केजरीवाल मानहानि मामला: फिर आमने-सामने होंगे जेठमलानी-जेटली

दिल्ली हाईकोर्ट में फिर वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी और केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली के बीच बहस देखने को मिलेगी. सोमवार को अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि के मुकदमे में अरुण जेटली से जेठमलानी सवाल-जवाब करेंगे.

इससे पहले इन दोनों के बीच बहस बेहद गरमागरम और रोचक रही है. पिछली बार बहस करते हुए जेठमलानी ने जेटली से सवाल किया था कि आखिर चुनाव हारने वाले एक शख्स की क्या प्रतिष्ठा है. जेठमलानी ने पूछा था, 'आप किस प्रतिष्ठा की बात करते हैं. आप तो 2014 का चुनाव हार गए थे.'

जेटली ने इसका जवाब देते हुए कहा कि चुनाव का नतीजा केवल कैंडिडेट की प्रतिष्ठा पर निर्भर नहीं करता. उन्होंने जेठमलानी के क्लाइंट अरविंद केजरीवाल को लपेटे में लेते हुए कहा, 'केजरीवाल भी उन्हीं चुनावों में 3.5 लाख से अधिक वोटों से हार गए थे.' इस पर जेठमलानी ने जेटली को केवल पूछे गए सवालों का जवाब देने की सलाह दी थी.

इससे पहले, जिरह की शुरुआत में अरुण जेटली ने जैसे ही ये कहना शुरू किया था कि वो 1977 से वकील के तौर पर प्रैक्टिस कर रहे हैं और उन्हें सिविल और क्रिमिनल दोनों तरह के केस हैंडल करने का अनुभव है. इस पर जेठमलानी ने छूटते ही कहा कि उन्हें सिविल लॉ में जेटली के ज्ञान में जरा भी दिलचस्पी नहीं है.

एक वक्त ऐसा आया कि जेठमलानी ने कोर्ट में डिक्शनरी निकाल ली. उन्होंने जेटली से पूछा कि 'गुडविल' और 'रेप्युटेशन' में क्या फर्क होता है? इस सवाल के बाद कोर्ट ने जेठमलानी को इसके आगे कुछ भी पूछने से रोक दिया.

जेटली ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर मानहानि का दावा करते हुए 10 करोड़ का मुकदमा ठोक रखा है. जेटली का आरोप है कि केजरीवाल ने उनपर डीडीसीए में गड़बड़ी और भ्रष्टाचार के झूठे आरोप लगाए हैं जिनसे उनकी मानहानि हुई है. जेटली का यह भी कहना है कि केजरीवाल ने उनकी पत्नी और बेटी के नाम पर फर्जी कंपनियां होने की भी बात कही है.

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi