S M L

Cbse board class 12 results 2017: इंतजार खत्म, cbse.nic.in पर देखें रिजल्ट, रक्षा ने 99.60 प्रतिशत के साथ किया टॉप

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 12वीं क्लास के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए हैं.

FP Staff Updated On: May 28, 2017 12:15 PM IST

0
Cbse board class 12 results 2017: इंतजार खत्म, cbse.nic.in पर देखें रिजल्ट, रक्षा ने 99.60 प्रतिशत के साथ किया टॉप

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 12वीं क्लास के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिए हैं. बोर्ड ने अपने सभी 10 क्षेत्रों के परिणामों की घोषणा एक साथ की है. इस बार एमिटी इंटरनैशनल स्कूल, नोएडा के रक्षा गोपाल ने 99.60 प्रतिशत के साथ टॉप किया है.

मिली जानकारी के अनुसार इस साल कुल 82 प्रतिशत छात्र पास हुए हैं. जबकि 2016 में 83 प्रतिशत छात्र पास हुए थे. वहीं इस साल 10,091 बच्चों ने 95 से 100 परसेंट मार्क्स हासिल किए हैं, जबकि पिछली बार ये आंकड़ा 9,351 था.

ग्रेस मार्क्स पर मंगलवार को आए दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के बाद बोर्ड ने मॉडरेशन पॉलिसी का पालन करते हुए रिजल्ट्स का एलान किया है. इसस पहले कहा जा रहा था कि बोर्ड रिजल्ट्स का एलान 24 मई से 27 मई के बीच कर सकता है.

हाल ही में बोर्ड ने अपने बयान में कहा था कि परिणाम समय पर ही घोषित किए जाएंगे. छात्र बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर लॉग इन अपना रिजल्ट देख सकते हैं.

ऐसे कर सकते हैं रिजल्ट चेक

- सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर जाएं. - परीक्षा से जुड़े लिंक पर क्लिक करें. - रोल नंबर आदि मांगी गई जानकारी फिल करें. - सब्मिट दबाएं, आपका रिजल्ट स्क्रीन पर फ्लैश हो जाएगा.

आपको बता दें कि पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के कारण इस साल सीबीएसई की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाएं देरी से शुरू हुई थीं. 10वीं क्‍लास की परीक्षाएं 9 मार्च 2017 से शुरू होकर 10 अप्रैल तक चली थीं, वहीं 12वीं की परीक्षाएं 9 मार्च 2017 से 29 अप्रैल 2017 के बीच आयोजित की गई थीं.

यहां भी कर सकते हैं रिजल्ट चेक

- results.nic.in - cbseresults.nic.in - cbse.nic.in

इससे पहले शुक्रवार को सीबीएसई की मॉडरेशन पॉलिसी को लेकर स्थिति साफ हो गई. बोर्ड ने पॉलिसी में बदलाव को लेकर सुप्रीम कोर्ट न जाने का फैसला किया.

मॉडरेशन पॉलिसी के विवाद के कारण सीबीएसई बोर्ड रिजल्‍ट में देरी हुई थी. जहां सीबीएसई ने मॉडरेशन पॉलिसी खत्‍म करने का फैसला लिया था, इसके चलते परीक्षा परिणाम की तारीख को लेकर संशय बना हुआ था.

इस मामले से जुड़े लोगों का क्‍या कहना है? अभिभावकों की अपील पर हाईकोर्ट में जनहित याचिका डालने वाले एडवोकेट आशीष वर्मा का कहना है कि हाईकोर्ट का यह बहुत अच्‍छा फैसला आया है. बीस लाख बच्‍चों की जिंदगी इससे जुड़ी है अगर सीबीएसई हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देता है तो सबसे बड़ा सवाल यही है कि इसका आधार क्‍या होगा.

उन्‍होंने कहा कि सीबीएसई के लिए हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ जाकर मॉडरेशन पॉलिसी को खत्‍म कर रिजल्‍ट घोषित करना भी संभव नहीं हैं. अभी सुप्रीम कोर्ट की छुट्टियां चल रही हैं. ऐसे में समर बैंच के सामने सीबीएसई को अपील करनी होगी.

वर्मा ने कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट का अपना मत होगा. लेकिन हाईकोर्ट के इतने महत्‍वपूर्ण आदेश के बाद संभावना है कि कोर्ट याचिका रद्द कर दे. यहां कोई भी फैसला लेने से पहले बीस लाख छात्रों का रिजल्‍ट और भविष्‍य के बारे में सोचा जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi