S M L

CAG रिपोर्ट : जंग की स्थिति में सेना के पास केवल 10 दिन का गोला-बारूद

रिपोर्ट में कहा गया है कि 152 तरह के गोला-बारूद में से सिर्फ 20 फीसदी को ही संतोषजनक माना गया है

FP Staff Updated On: Jul 22, 2017 11:06 AM IST

0
CAG रिपोर्ट : जंग की स्थिति में सेना के पास केवल 10 दिन का गोला-बारूद

नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) ने संसद में एक रिपोर्ट रखी है. इसमें बताया गया है कि युद्ध की स्थिति में सेना के पास 10 दिन के लिए ही पर्याप्त गोला बारूद हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि 152 तरह के गोला-बारूद में से सिर्फ 20 फीसदी को ही संतोषजनक माना गया है.

बता दें कि पहले सेना के पास 40 दिनों के सघन युद्ध के लिए गोला-बारूद अपने वार वेस्टेज (डब्लूडब्लूआर) में रखना होता था. इसे साल 1999 में घटा कर 20 दिन कर दिया गया. नई रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के पास 20 दिन के लिए पर्याप्त हथियार नहीं है.

रिपोर्ट के मुताबिक, सितंबर 2016 में कुल 152 तरह के गोला-बारूद हैं. इनमें केवल 31 ही 40 दिनों के लिए पर्याप्त हैं. वहीं 12 प्रकार के गोला-बारूद 30-40 दिनों के लिए और 26 प्रकार के गोला-बारूद 20 दिनों से थोड़ा ज्यादा के लिए पर्याप्त हैं. इसमें यह भी कहा गया है कि बेहतर फौजी ताकत बनाए रखने के लिए जरूरी बख्तरबंद लड़ाकू वाहनों (एएफवी) और तोपों के लिए गोला-बारूद भी कम हैं.

बता दें कि यूपीए सरकार ने साल 2013 में साल 2015 तक गोला-बारूद की कमी को दूर करने के लिए एक रोडमैप तैयार किया था. लेकिन इसमें कोई सुधार देखने को नहीं मिला है.

हालांकि, यह भी कहा जा रहा है कि 10 महीने में हुए रक्षा सौदों को पूरा होने में कम से कम दो साल का समय लगेगा. इसके बाद ही सेना को बेहतर हथियार मिल सकेंगे. सेना को रूस और इजराइल से साल 2019 में रॉकेट, ऐंटी टैंक गाइडेड मिसाइल और दूसरे महत्वपूर्ण हथियार मिलेंगे. वहीं, 2019 से 2022 के फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान मिलेंगे.

(साभार: न्यूज़ 18 हिंदी)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi