S M L

सिक्किम विवाद के बीच चीन जाएंगे अजीत डोभाल

डोकालाम विवाद पर चीन से भारत की विस्तृत बातचीत नहीं हुई है

FP Staff Updated On: Jul 16, 2017 05:53 PM IST

0
सिक्किम विवाद के बीच चीन जाएंगे अजीत डोभाल

सिक्किम में जारी सीमा विवाद के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल इस महीने के अंत में बीजिंग की यात्रा करने वाले हैं. वो 27 और 28 जुलाई को ब्रिक्स देशों के एनएसए के साथ एक बैठक में शामिल होंगे.

कार्यक्रम की मेजबानी चीन राज्य परिषद की ओर से यांग जेईची करेंगे. ये दोनों ही सीमा से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करने के लिए अपनी सरकारों की ओर से नामांकित किए गए विशेष प्रतिनिधियों के रूप में काम करते हैं.

हालांकि अभी तक डोकालाम विवाद पर चीन से भारत की विस्तृत बातचीत नहीं हुई है. लेकिन तय माना जा रहा है कि मुलाकात के वक्त ये विवाद डोभाल के दिमाग पर हावी होगा जिस पर चीन अपनी नज़र पहले से गड़ाए हुए है.

पिछले साल मिले थे भारत-चीन के प्रतिनिधि

भारत-चीन के प्रतिनिधियों ने पिछले साल नवंबर में एक-दूसरे से मुलाकात कर सीमा से जुड़े मुद्दों पर 20 बार बातचीत करना तय किया था. हालांकि, यह संभावना नहीं है कि डोभाल और यांग इस त्रिकोणीय राज्य के मसले पर किसी निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं. चूंकि यह एक त्रिकोणीय राज्य विवाद है और इस विवाद का केंद्र यानी कि भूटान इस बैठक में भाग नहीं लेगा.

भारत, भूटान को सुरक्षा सहायता प्रदान करता है और आगे भी कर सकता है. ऐसे में चीन के साथ भूटान की ओर से सीमा विवादों पर बातचीत करना भारतीय अधिकारियों के लिए सही निर्णय नहीं साबित होगा.

हालांकि, यह सिर्फ एक कारण नहीं है कि जिससे डोकालाम विवाद पर बातचीत करने में देरी हो रही है. चीन इस क्षेत्र पर 130 साल पुराने संधि को लेकर दावा करता है जो एक खराब सर्वे के रूप में जानी जाती है. जिसके कारण इस जमीनी विवाद का जल्दी हल निकल पाना मुश्किल है.

इसका ये मतलब कतई नहीं है कि भारत इस रेस से बाहर है. क्योंकि कई समीक्षक बता चुके हैं कि डोकालाम ट्राइबॉर्डर क्षेत्र का भारत के लिए रणनीतिक महत्व है, जो सिलीगुड़ी के संकीर्ण कॉरिडोर के पास है.

(साभार: न्यूज़18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi