S M L

सीआरपीएफ बस्तर में नक्सल विरोधी अभियानों में करेगा बदलाव

सीआरपीएफ द्वारा उग्रवादियों के खिलाफ नए सिरे से अभियान छेड़े जाने की उम्मीद है

Bhasha Updated On: Apr 27, 2017 11:34 PM IST

0
सीआरपीएफ बस्तर में नक्सल विरोधी अभियानों में करेगा बदलाव

सीआरपीएफ जल्द ही राज्य के दक्षिण बस्तर क्षेत्र में नक्सल विरोधी अभियानों में बदलाव करने वाला है. यह बदलाव वह सोमवार को छत्तीसगढ़ में हुए एक बड़े नक्सली हमले के बाद हुआ है. साथ ही उग्रवादियों के खिलाफ जल्द ही अभियान छेड़े जाने की उम्मीद भी है.

केंद्र ने दिया सफाया अभियान चलाने का निर्देश 

24 अप्रैल को सुकमा जिले के बुर्कापाल गांव के पास नक्सलियों ने सीआरपीएफ के 25 जवानों को मार दिया. जबकि 11 मार्च को इसी जिले में भेजी गांव के पास एक हमले में अर्धसैनिक बल के 12 लोग मारे गए थे.

सोमवार के हमले के दो दिनों बाद केंद्र ने सुरक्षा बलों से उग्रवादियों के खिलाफ सफाया अभियान चलाने और अगले कुछ हफ्ते में नतीजे देने को कहा है.

सीआरपीएफ के कार्यवाहक डीजी सुदीप लखटकिया ने कहा कि अभी हुए हमले ने इन इलाकों में स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) की समीक्षा की स्वभाविक जरूरत पैदा की है.

उन्होंने कहा कि फोर्स ने नए उपायों को अपनाने का फैसला किया है और वह सड़क निर्माण कार्य को जारी रखेगा जो मध्य भारत के इन दूर दराज के इलाकों में विकास करने में मदद करता है.

बलों की नए सिरे से करेंगे तैनाती 

डीजी ने घटना स्थल का दौरा करने के एक दिन बाद कहा, ‘हमने रणनीति में बदलाव करने का फैसला किया है. हमने कुछ सबक सीखा है. मैं ब्योरा तो नहीं दे सकता लेकिन मैं आपसे कह सकता हूं कि हम अपने बलों की नए सिरे से तैनाती करेंगे. साथ ही उग्रवाद विरोधी अभियानों की संख्या और गुणवत्ता बढ़ाएंगे.’

उन्होंने कहा हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि दुश्मन हमें किसी तरह से चकमा ना दे पाएं. हम उनका पीछा करेंगे और पहले ही उन्हें उलझा देंगे.

डीजी ने कहा कि अब आधे कर्मी सड़क निर्माण की सुरक्षा और इस तरह के अन्य कार्य करेंगे जबकि अन्य आधे लोग उग्रवाद विरोधी विशेष अभियान चलाएंगे. उन्होंने कहा कि फोर्स की नई योजना इलाके में प्रभावी साबित होगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi