S M L

ब्रिटेन में कार्रवाई के बाद डॉन को बर्बाद करने में लगीं भारतीय एजेंसियां

ब्रिटेन में दाऊद की संपत्तियों पर हुई हालिया कार्रवाई के बाद भारतीय जांच एजेंसियों के हौसले बढ़े हुए हैं

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Sep 15, 2017 02:51 PM IST

0
ब्रिटेन में कार्रवाई के बाद डॉन को बर्बाद करने में लगीं भारतीय एजेंसियां

भारतीय जांच एजेंसियों ने एक बार फिर से अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम पर लगाम लगाने की तैयारी शुरू कर दी है. दो दिन पहले ही एक ब्रिटिश अखबार ने दावा किया था कि दाऊद इब्राहिम की 43 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति को ब्रिटेन की सरकार ने जब्त कर लिया है.

ब्रिटेन के इस ताजा कदम से उत्साहित भारतीय जांच एजेंसियों ने ब्रिटेन से अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की जब्त संपत्तियों का ब्यौरा देने का आग्रह किया है.

भारतीय जांच एजेंसियां यह पता लगाने में लग गई है कि दाऊद की वह कौन-कौन सी प्रॉपर्टी है, जिसे ब्रिटेन में जब्त किया गया है.

हालांकि, ईडी ने दाऊद की कुछ संपत्तियों का ब्यौरा पहले भी ब्रिटेन के साथ साझा कर रखा है. लेकिन, भारतीय जांच एजेंसियों को लग रहा है कि जब्त की संपत्ति साझा किए गए ब्यौरे से ज्यादा है.

भारतीय जांच एजेंसियों को भी नहीं था इतनी संपत्ति का अंदाजा

Dawood Ibrahim

ईडी सूत्रों के मुताबिक भारतीय जांच एजेंसियों को भी दाऊद की ब्रिटेन में 43 हजार करोड़ रुपए की संपत्ति होने का अंदाजा नहीं था.

इसका कारण था दाऊद ने अपने प्रॉपर्टी का बड़ा हिस्सा अपनी बेटी माहरुख और दामाद जुनैद के नाम कर रखा था. जिससे भारतीय जांच एजेंसियों को भटकाया जा सके.

फर्स्टपोस्ट हिंदी से बात करते हुए ईडी के एक अधिकारी ने बताया, 'ब्रिटेन में दाऊद की संपत्तियों के जब्त करने का आधिकारिक ब्यौरा अभी तक नहीं मिला है. हमने ब्रिटेन से जब्त की गई संपत्तियों का ब्यौरा देने को कहा है.'

ईडी के इस अधिकारी का कहना है, 'लंदन में स्थित भारतीय दूतावास को इस मामले को प्राथमिकता के तौर पर लेने का आग्रह किया गया है.'

हम आपको बता दें कि भारतीय जांच एजेंसियों ने साल 2015 में भी ब्रिटेन को दाऊद की 23 संपत्तियों का ब्यौरा उपलब्ध कराया था. लेकिन, ईडी को अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि इनमें से कौन-कौन सी संपत्ति को जब्त किया गया है और कौन-कौन सी संपत्ति को इस सूची से बाहर रखा गया है.

भारतीय जांच एजेंसियां ब्रिटेन के इस कदम से काफी उत्साहित हैं. प्रवर्तन निदेशालय ने अब दुबई में भी दाऊद की संपत्तियों को जब्त कराने का प्रयास एक बार फिर से तेज कर दिया है.

ईडी ने यूएई की सरकार को दाऊद की 15 हजार करोड़ की संपत्ति का ब्यौरा पहले ही दे रखा है. लेकिन, यूएई सरकार की जांच काफी धीमी रफ्तार से चल रही थी.

ब्रिटेन के ताजा कदम के बाद एक बार फिर से यूएई सरकार पर भी दाऊद के खिलाफ एक्शन लेने का दबाव बढ़ जाएगा.

मीडिया रिपोर्ट्स में यह बात निकल कर सामने आ रही है कि ब्रिटेन में दाऊद के कई होटलों, घरों, बिसनेस कॉम्प्लेक्स, कॉमर्शियल बिल्डिंग्स से जुड़े कई और संपत्तियों को जब्त किया गया है.

दुबई में डॉलफिन कंस्ट्रक्शन, किंग वीडियो, ईस्ट-वेस्ट एयरलाइंस और मोइन गारमेंट्स नाम की कई कंपनियां दाऊद के नाम पर हैं. इन सारी कंपनियों की देख-रेख डी कंपनियों के ही जिम्मे है.

हम आपको बता दें कि दाऊद इब्राहिम को वैश्विक आतंकवादी करार दिया चुका है. भारतीय जांच एजेंसियों को उसकी संपत्ति कब्जे में लेने में कई कानूनी अड़चनें सामने आ रही हैं.

देश में भी दाऊद की संपत्तियों को जब्त करने में कई कानूनी अड़चने आ रही हैं. दाऊद की कुछ संपत्तियां कानूनी विवादों में फंसी हुई है. कुछ अन्य संपत्तियां प्रशासन द्वारा नीलाम की गई है. लेकिन, इसके बावजूद लोग कब्जा लेने से कतरा रहे हैं. धन की कमी का बहाना बनाया जा रहा है.

Mumbai blast

भारत ब्रिटेन को दाऊद को लेकर लगातार डोजियर सौंपता आ रहा है. दाऊद का मकान, फ्लैट और होटल जैसी दो दर्जन से अधिक संपत्तियों का ब्यौरा ब्रिटेन के पास मौजूद है.

देश की मोदी सरकार 1993 मुंबई बम धमाकों के मुख्य आरोपी पर शिकंजा कसने का कोई भी मौका हाथ से गंवाना नहीं चाहती. वहीं, दूसरी तरफ पाकिस्तान दाऊद को लगातार भारतीय कानून का सामना करने से रोकने के लिए हर हथकंडा अपनाने से बाज नहीं आता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi