विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

मौत के 25 साल बाद बेटी ने जज बनकर पिता के सपने को पूरा किया

अंजुम सैफी को लोक सेवा आयोग द्वारा संचालित पीसीएस जे- 2016 परीक्षा में कामयाबी हासिल हुई है

FP Staff Updated On: Oct 15, 2017 05:09 PM IST

0
मौत के 25 साल बाद बेटी ने जज बनकर पिता के सपने को पूरा किया

एक बेटी ने अपनी मेहनत और लगन से अपने पिता की मौत के 25 साल बाद उनके सपनों को साकार किया है. लोक सेवा आयोग द्वारा संचालित पीसीएस जे- 2016 परीक्षा में सफल होने वाली अंजुम सैफी 1992 में सिर्फ चार साल की थीं जब उनके पिता की बदमाशों ने हत्या कर दी थी. अंजुम के जेहन में बचपन की वो धुंधली यादें अब भी ताजा हैं जब उनके पिता उन्हें जज बनाने की बात कहा करते थे.

अपनी मेहनत और लगन से अंजुम अब जज बन गई हैं. मगर इस सपने को देखने वाले और उनका हौसला बढ़ाने वाले पिता नहीं हैं. अंजुम ने जब सफल कैंडिडेट की सूची में अपना नाम देखा तो उनकी आंख से आंसू छलक आए. उनका गला रूंध गया और वो अपने पिता को याद कर रो पड़ीं.

अंजुम के पिता रशीद अहमद की बाजार में एक हार्डवेयर की दुकान थी. वो हमेशा अन्याय और अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाते थे. रशीद अहमद ने एक दिन बदमाशों को हॉकर से पैसे छीनते देखा तो उन्होंने रोकने की कोशिश की. इसपर बदमाशों ने रशीद अहमद की गोली मारकर हत्या कर दी.

Murder

अंजुम ने कड़ी मेहनत और लगन से पिता का सपना पूरा किया

अंजुम की मां हामिदा बेगम ने बताया, 'जब रिजल्ट आया तो सभी पड़ोसी और रिश्तेदार जश्न में डूबे थे. लेकिन अंजुम बार-बार सभी से बस यही कह रही थी कि काश आज पापा यहां होते. काश मैं उनके साथ अपनी ये खुशियां बांट पाती.'

अंजुम के बड़े भाई दिलशाद अहमद ने बताया, 'पापा के जाने के बाद उनके सपनों को पूरा करने के लिए हम सबने कड़ी मेहनत की है. आज अंजुम ने जो हासिल किया है, उसके पीछे उसकी कड़ी मेहनत है. हमने तमाम कठिनाइयों का दौर देखा लेकिन हम हारे नहीं. उसका ही नतीजा है कि आज मेरी बहन इस मुकाम पर है.'

अंजुम ने कहा, 'मेरे पिता ने सच की लड़ाई लड़ते हुए जान दी. वह हमेशा ही समाज में बेहतर बदलाव लाना चाहते थे. मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि मैं उनके बताए रास्तों पर चल सकूं. अब मुझे वो मौका भी मिल गया है कि मैं समाज में बदलाव लाने की कोशिश कर सकती हूं. मैं अपने पिता के बलिदान को बेकार नहीं जाने दूंगी.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi