विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

सरकार ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को जमा करने से किया इनकार

लोगों ने सरकार से बच रहे 500 और 1000 के सीमित संख्या में नोटों को जमा कराने के लिए एक और अवसर देने की मांग की है

Bhasha Updated On: Aug 31, 2017 07:42 PM IST

0
सरकार ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को जमा करने से किया इनकार

वित्त मंत्रालय ने 500 और 1000 रुपए के बंद नोटों को जमा कराने के लिए एक और अवसर देने की संभावना से इनकार किया है. सरकार ने कहा कि उसे उम्मीद थी कि बंद किए गए पूरे नोट बैंकों के पास आ जाएंगे, जोकी रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुरूप है.

रिजर्व बैंक द्वारा बुधवार को जारी वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार कुल 15.44 लाख करोड़ रुपए के पुराने 500 और 1000 रुपए के नोटों में 99 फीसदी नोट बैंकों में वापस आ गए हैं. इस बीच कुछ लोगों ने सरकार से उनके पास बचे रह गए 500 और 1000 के सीमित संख्या में नोटों को जमा कराने के लिए एक और अवसर देने की मांग की है.

आर्थिक मामलों के सचिव एस सी गर्ग ने कहा, ‘फिलहाल इसकी कोई संभावना नहीं है.’ उनसे पूछा गया था कि क्या लोगों को अपने पास बचे रह गए बंद नोटों को जमा कराने का दूसरा अवसर मिलेगा.

रिजर्व बैंक के बयान के बाद मंत्रालय ने बुधवार को कहा था कि सरकार को उम्मीद थी कि सारे बंद नोट बैंकिंग प्रणाली में वापस आ जाएंगे. हालांकि तत्कालीन अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने पिछले साल दिसंबर में सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि सरकार को उम्मीद है कि बंद नोटों में से सिर्फ10-11 लाख करोड़ रुपए के नोट बैंकिंग प्रणाली में लौटेंगे.

नोटबंदी का सारा पैसा प्रणाली में वापस आ जाएगा

रेवेन्यू सेक्रेटरी हसमुख अधिया ने सात दिसंबर को ट्वीट किया था, ‘हम यह भविष्यवाणी नहीं करते हैं कि सरकार उम्मीद करती है कि नोटबंदी का सारा पैसा प्रणाली में वापस आ जाएगा’ गर्ग ने कहा कि ज्यादातर परिवारों के पास ऊंचे मूल्य के नोट थे, जिनका इस्तेमाल वे नोटबंदी से पहले भुगतान करने के लिए करते थे.

उन्होंने कहा कि इस बात की स्पष्ट उम्मीद थी कि इसमें से ज्यादातर पैसा वापस आ जाएगा. लोग इसके बारे में अलग-अलग अनुमान लगा रहे थे. लेकिन केंद्र ने कभी यह नहीं कहा था कि इसमें से कुछ बंद नोट वापस नहीं लौटेंगे. सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल के बयान पर उन्होंने कहा कि यह एक राय थी.

रिजर्व बैंक द्वारा 2016-17 के लिए आधे से कम लाभांश भुगतान पर गर्ग ने कहा, ‘बजट में हमने 58,000 करोड़ रुपए का अनुमान लगाया था. रिजर्व बैंक ने 44,000 करोड़ रुपए के अधिशेष का अनुमान लगाया था. रिजर्व बैंक ने सरकार को 30,000 करोड़ रुपए हस्तांतरित किए हैं. हम केंद्रीय बैंक से इस बात पर विचार विमर्श कर रहे हैं कि क्या और स्थानांतरण की गुंजाइश है क्योंकि बजट अनुमान 58,000 करोड़ रुपए था.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi