S M L

‘आक्रोश’ ने ओमपुरी को बना दिया था ‘कॉन्ट्रोवर्सी मैन’

एक्टिंग में खाली हुआ ओमपुरी का शून्य बॉलीवुड कई साल तक नहीं भर पाएगा

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: Jan 06, 2017 12:03 PM IST

0
‘आक्रोश’ ने ओमपुरी को बना दिया था ‘कॉन्ट्रोवर्सी मैन’

‘आक्रोश’ फिल्म के लिए ओमपुरी को 1980 में पहली बार नेशनल अवॉर्ड मिला था, पिछले कुछ वक्त से ऐसे ही किसी आक्रोश की वजह से ओमपुरी साहब ‘नेशनल फिगर’ बने हुए थे.

वो आक्रोश था क्यों, किस पर था, या किसी और का गुस्सा किसी और पर निकाला ये सब बातें अब ओमपुरी से साथ ही चली गईं. कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद हो रहे सेना के जवानों के खिलाफ ओमपुरी ने आक्रोश जताया था कि किसने कहा था कि वो फौज में जाएं. ओमपुरी शहीद नितिन यादव के इटावा में गांव भी गए और उनकी शहादत पर उन्होंने अपनी श्रद्धांजलि भी दी. ओमपुरी से खिलाफ जब पूरा मीडिया गाजे-बाजे के साथ चढ़ गया तो उन्हें अपनी गलती का एहसास भी हुआ और उन्होंने माफी मांग ली. इसमें कोई एक्टिंग नहीं थी. ये ओमपुरी के अपने विचार थे.

ये अलग बात है कि उनके खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा चलाने के लिए कुछ लोगों ने शिकायत भी दर्ज कराई थी, जिसके बाद ओमपुरी का आक्रोश इस कदर बढ़ गया था कि उन्होंने ‘कुछ’ हो जाने पर पीएम मोदी के सिर अपनी जिम्मेदारी मढ़ दी थी. पीएम मोदी के खिलाफ वो जमकर ट्वीट्स करते थे. इस ‘आक्रोश’ की आखिर वजह क्या थी?

राजनीति में आना चाहते थे?

सवाल का जवाब कुछ इस तरफ इशारा करता है कि हो सकता है ओमपुरी राजनीति में आना चाहते थे, क्योंकि कई राजनैतिक मुद्दों पर उन्होंने अपनी आवाज मुखर कर रखी थी. नोदबंदी से लेकर कश्मीरी पंडितों के दर्द तक उनकी अपनी सोच थी. कश्मीर मुद्दे पर उनकी राय से काफी लोग उनसे खफा थे लेकिन उलजलूल बयानबाजी के लिए ओमपुरी पिछले कुछ वक्त से सुर्खियां जरूर बटोर रहे थे.

देखिए- इस शानदार एक्टर के यादगार फिल्मों के सीन

‘पद्मश्री’ ओमपुरी

18 अक्टूबर 1950 को अंबाला में जन्मे ओमपुरी ने एफटीआईआई से ग्रेजुएशन करके बॉलीवुड को अपने करियर के तौर पर चुना. शुरूआत 1976 में मराठी फिल्म घासीराम कोतवाल से की. कोई खास शक्ल सूरत न होने के बाद बी बॉलीवुड में अपने पैर जमाने में ओमपुरी को वक्त नहीं लगा. नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में नसीरुद्दीन शाह उनके साथी रहे. 1980 आते-आते उन्होंने खुद को समानांतर सिनेमा के ऐसा कैरेक्टर के तौर पर स्थापित कर लिया था जिनके बिना उस सिनेमा का पूरा होना मुश्किल नजर आता था. अर्धसत्य, मिर्च मसाला, धारावी जैसी फिल्मों में ओमपुरी ने साबित कर दिया था कि उनकी एक्टिंग का कोई सानी नहीं है.

ompuri

फिल्म रामभजन जिंदाबाद के ट्रेलर लॉन्च पर ओमपुरी

आक्रोश ने पहली बार ओमपुरी को अवॉर्ड्स का स्वाद चखाया. तभी ओमपुरी ने कमर्शियल सिनेमा में भी पैर रखा. यहां शुरुआती रोल्स अनुपम खेर की तरह उन्हें भी निगेटिव रोल्स में मिले. माचिस में एक सिख आतंकवादी के रोल में उन्हें आज भी याद किया जाता है. उनकी एक्टिंग से प्रभावित होकर 1992 में उन्हें हॉलीवुड फिल्म सिटी ऑफ जॉय में काम करने के लिए बुलाया गया. जिसके बाद हॉलीवुड से बॉलीवुड तक उनके एक्टिंग की धाक जम गई. 1994 में वूल्फ, 1996 में द घोस्ट एंड द डार्कनेस में उनके अभिनय को सराहा गया.

ये भी पढें - ओमपुरी: संघर्ष, सेक्स, शोषण और जुनून से भरा जीवन

गुप्त में एक कठोर पुलिसवाले के रोल में ओमपुरी ने सबको डराया. एक्टिंग के वो एक मंझे हुए खिलाड़ी बन चुके थे. 2000 आते-आते ओमपुरी ने कॉमेडी फिल्मों में खुद को एक नए अंदाज में पेश किया. चाची 420, हेराफेरी, चोर मचाए शोर, मालामाल वीकली में उनके रोल आज भी टीवी से दर्शकों को चिपकाए हुए हैं. एक्टिंग में उनकी प्रतिभा का सम्मान सरकार ने उन्हें पद्मश्री प्रदान करके किया.

परिवार से था 'आक्रोश'

ओमपुरी का पारिवारिक जीवन भी आक्रोश की ही भेंट चढ़ गया. 1993 में नंदिता पुरी से शादी करने के बाद 2013 में उन्होंने नंदिता को तलाक दे दिया. नंदिता के साथ मारपीट की खबरेें भी मीडिया में खूब छाई रहीं.

बालीवुड से था आक्रोश

ओमपुरी के दिल में हमेशा कसक रही कि उन्हें उनकी फिल्मों का मुंहमांगा मेहनताना नहीं मिला और ना ही वो ऊंचाई जिनकी तमन्ना उनके दिल में थी. कई स्टार्स ने उनकी साधारण शक्लोसूरत का मजाक भी बनाया, लेकिन हर मजाक का जवाब ओमपुरी ने अपनी प्रतिभा से दिया. इसी आक्रोश ने अंतिम दिनों में उन्हें बॉलीवुड के कुछ चुनिंदा स्टार्स के खिलाफ मुखर बना दिया था. कुछ ही दिन पहले उन्होंने अपनी आने वाली फिल्म रामभजन जिंदाबाद का ट्रेलर लॉन्च किया था. सलमान खान की ट्यूबलाइट समेत गर्जना और लश्तम-पश्तम जैसी फिल्में रिलीज के लिए तैयार हैं. हर साल करीब 5 फिल्मों में ओमपुरी की बेजोड़ शक्सियत का खालीपन उनकी मृत्यु के बाद भरना हिंदी सिनेमा के लिए बहुत मुश्किल होगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi