S M L

बच्चों के रियलिटी टीवी शो बैन करने की डिमांड पर शुजीत सरकार को दिया नेहा धूपिया ने जवाब

Rajni Ashish | Published On: Jul 06, 2017 05:39 PM IST | Updated On: Jul 06, 2017 05:43 PM IST

0
बच्चों के रियलिटी टीवी शो बैन करने की डिमांड पर शुजीत सरकार को दिया नेहा धूपिया ने जवाब

हाल ही में हमने आपको फिल्मकार शूजीत सरकार द्वारा बच्चों के रियलिटी टीवी शो पर प्रतिबंध लगाने के आग्रह की खबर आपको बतायी थी.

आपको बता दें कि शुजीत ने ट्वीट कर सरकार से छोटे बच्चों पर आधारित सभी रियलिटी शोज पर तत्काल प्रभाव से बैन लगाने की मांग कर डाली थी.

हमारी वरिष्ठ सहयोगी और सिनियर जर्नलिस्ट भारती दुबे से बात करते हुए शुजीत ने चैनल्स,बच्चों के पेरेंट्स और शो में जज के तौर पर दिखने वाले बॉलीवुड से जुड़े लोगों पर गंभीर आरोप लगाए थे.

shoojit_sircar

शुजीत ने भारती से बात करते हुए ना सिर्फ बच्चों के पेरेंट्स पर सवाल उठाया,बल्कि इन रियलिटी शोज को जज करने वाले फिल्म इंडस्ट्री के लोगों पर भी सिर्फ पैसे के लिए ऐसे शोज का हिस्सा बनने का बड़ा आरोप लगाया.

Neha-Dhupia-Beautiful-Photos

बॉलीवुड की हॉट एंड बोल्ड एक्ट्रेस नेहा धूपिया ने शुजीत के उठाये सवालों पर बात करते हुए कहा कि 'इस तरह के मंच बच्चों को अपने जीवन की शुरुआती चरण में ही आत्मविश्वास और दिशा देते हैं'.

new-show-story+fb_647_032517122704

कलर्स पर टेलीकास्ट होने वाले बच्चों के रियलिटी शो ‘छोटा मियां धाकड़’ की जज रहीं नेहा ने शुजीत के उठाये हुए सवालों पर जवाब देते हुए कहा कि, 'मुझे लगता है कि मैं इस मुद्दे पर (शुजीत से) थोड़ी अलग राय रखती हूं.

अभी कॉम्पीटीशन का जमाना है, इसलिए मुझे हर उस चीज के लिए साथ रहना चाहिए, जिसके लिए मैं काम करती हूं.

मैंने बच्चों का रियलिटी शो जज किया है और सबसे महत्वपूर्ण चीज है कि अथॉरिटी के तौर पर हमें पता होता है कि यहां क्या हो रहा है'.

sonu-sood_neha-dhupia_chunkey-pandey__1012302-2

उन्होंने कहा, 'शुजीत ने अपने ट्वीट में जो कहा है, मैं उसका सम्मान करती हूं.

लेकिन, दूसरा पक्ष ये है कि इन बच्चों की बहुत देखभाल की जाती है, वे स्कूल भेजे जाते हैं.

जब वे दो से तीन सप्ताहों की अवधि के दौरान शो की शूटिंग करते हैं तो उनके लिए निजी ट्यूटर की व्यवस्था की जाती है.

मुझे लगता है कि रियलिटी शो उन्हें आत्मविश्वास देते हैं और उन्हें लगभग 10 साल की उम्र की शुरुआती अवस्था में एक मंच और दिशा उपलब्ध कराते हैं'.

नेहा ने हालांकि शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि 'मैं, हालांकि बच्चों की शिक्षा का पुरजोर तौर पर समर्थन करती हूं. मैं मानती हूं कि सपना जो भी हो, बच्चों को अपनी शिक्षा पूरी करनी चाहिए और उसके बाद वे जो भी करना चाहें, करना चाहिए.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi