विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

सेंसर बोर्ड को फिल्मों को बैन करना बंद करना चाहिए: कोंकणा सेन शर्मा

कोंकणा शर्मा की फिल्म लिपस्टिक अंडर माय बुर्खा को सेंसर बोर्ड ने कर रखा है.

FP Staff Updated On: Mar 20, 2017 11:23 AM IST

0
सेंसर बोर्ड को फिल्मों को बैन करना बंद करना चाहिए: कोंकणा सेन शर्मा

कोंकणा शर्मा ने अपनी फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्खा' को बैन करने के सेंसर बोर्ड के फैसले पर कहा है कि सेंसर बोर्ड को फिल्मों को बैन करना बंद कर देना चाहिए.

कोंकणा की फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्खा' को सेंसर बोर्ड ने जनवरी में बैन कर दिया था. बोर्ड ने इस फिल्म को ‘महिला प्रधान’ होने और ‘अश्लील शब्दों के इस्तेमाल’ की वजह से खारिज कर दिया.

कोंकणा सीएनएन-न्यूज 18 के शो 'मार्च ऑन वुमन' के दौरान कहा कि ‘मुझे नहीं लगता कि सेंसर बोर्ड को फिल्मों को बैन करना चाहिए. उन्हें फिल्मों को सर्टिफिकेट देना चाहिए. ये जरूरी है कि हम हर तरह की फिल्में देखें, खासकर ऐसी फिल्में, जहां औरतें खुद के बारे में खुलकर बात कर रही हैं.’

कोंकणा ने आगे कहा कि ‘ मुझे बुरा लगता है ये देखकर कि दूसरे श्रेणी की फिल्में तुरंत पास हो जाती हैं. और इन जैसी फिल्मों को बैन कर दिया जाता है. दरअसल फिल्मों को बैन करना ही नहीं चाहिए. किसी भी फिल्म को नहीं.’

'लिपस्टिक अंडर माय बुर्खा' चार अलग-अलग आयुवर्ग की औरतों की कहानी है, जो अलग-अलग चीजों में अपनी स्वतंत्रता ढूंढती हैं.

विडंबना ये है कि जिस फिल्म को सेंसर बोर्ड ने बैन किया था, वो ग्लास्गो फिल्म फेस्टिवल में ऑडियंस अवॉर्ड और मुंबई फिल्म फेस्टिवल में जेंडर इक्वलिटी अवॉर्ड जीत चुकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi