गूगल के पार: विण्ढम फॉल की राजनीतिक उपेक्षा की कहानीगूगल के पार: विण्ढम फॉल की राजनीतिक उपेक्षा की कहानी
S M L

नए लुक के साथ कमबैक कर रहे हैं 'तारे जमीं पर' वाले दर्शील सफारी

वो मासूम बच्चा अब नो बफरिंग,नो सफरिंग' वाले अंदाज में दिख रहा है.

FP Staff | Published On: Feb 16, 2017 02:05 PM IST | Updated On: Feb 16, 2017 02:05 PM IST

नए लुक के साथ कमबैक कर रहे हैं 'तारे जमीं पर' वाले दर्शील सफारी

2007 में आई थी फिल्म 'तारे जमीं पर'. फिल्म में डिस्लेक्सिया नाम की बीमारी के साथ आया था एक बच्चा जिसे गणित के अक्षरों में चित्र दिखते थे.

वही ईशान अवस्थी, जिससे हर दूसरा बच्चा कनेक्ट कर रहा था, जो हॉस्टल में रहता हो, जिसके ऊपर पढाई दवाब हो. आमिर खान प्रोडक्शन की खोज ये लड़का था दर्शील सफारी.

अपने अभिनय से उन्होंने लोगों को रुलाया तो वहीं शरारतों से खूब हंसाया भी था. इस फिल्म के लिए उन्हें फिल्मफेयर बेस्ट एक्टर अवार्ड और बेस्ट क्रिटिक्स अवार्ड मिला था.

दर्शील का किरदार फिल्म में एक ऐसे बच्चे का था, जो घर,स्कूल हर जगह दबाव झेलता नजर आता है. लेकिन प्रदीप अतलुरी के डायरेक्शन में आ रही फिल्म 'क्विकी' कुछ अलग है. फिल्म की टैगलाइन है 'नो बफरिंग,नो सफरिंग' और फिल्म में दर्शील लीड रोल में हैं.

फिल्म एक टीनएज लव स्टोरी के बारे में है, जिसमें दर्शील का लुक पहले से बिलकुल बदला हुआ है.

फिल्म का पोस्टर 14 फरवरी, वेलेंटाइंस डे के दिन सोशल मीडिया पर अपलोड किया गया. उनकी टी शर्ट पर बहुत सारे ऐसे शब्द लिखे हैं जो आजकल के यूथ इस्तेमाल करते है. जैसे-YOLO, Bae, instalove, bromance.

‘तारे जमीं पर’ के बाद दर्शील ने 2010 में डायरेक्टर प्रियदर्शन की ‘बम बम भोले’ में भी काम किया था जो ईरानी फिल्म ‘चिल्ड्रेन ऑफ हैवन’ की रीमेक थी.

इसके बाद वे 'जोकोमोन' और 'मिडनाइट चिल्ड्रेन्स' जैसी फिल्मों में भी नजर आए. साथ ही वो टीवी रियलिटी शो 'झलक दिखला जा' में भी नजर आए थे.

'क्विकी' टोनी डिसूजा, अमूल विकास मोहन और नितिन उपाध्याय के प्रोडक्शन में आ रही है.

(खबर कैसी लगी बताएं जरूर. आप हमें फेसबुक, ट्विटर और जी प्लस पर फॉलो भी कर सकते हैं.)

पॉपुलर

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi

लाइव

3rd T20I: Sri Lanka 43/1Kusal Mendis (W) on strike