S M L

कान 2017: भारतीय ‘हीरोइन’ चल रही हैं ‘फिल्में’ नहीं

पिछले दो साल से कोई भी भारतीय फिल्म कान में दिखाई नहीं गई है

Sunita Pandey | Published On: May 18, 2017 03:44 PM IST | Updated On: May 18, 2017 03:44 PM IST

0
कान 2017: भारतीय ‘हीरोइन’ चल रही हैं ‘फिल्में’ नहीं

70वें कान फिल्म फेस्टिवल का आगाज हो चुका है. अगले 12 दिनों तक चलने वाले इस फिल्म महोत्सव में हर साल की तरह इस साल भी भारतीय सुंदरियों का जलवा शबाब पर होगा.

लेकिन बॉलीवुड के लिए ये इस साल की दूसरी शर्मनाक घटना है जब कोई भी भारतीय फिल्म कान फिल्म फेस्टिवल में नहीं दिखाई जा रही है. इस साल की पहली शर्मनाक घटना तो साउथ सिनेमा की बाहुबली 2 ने 1475 करोड़ रुपए की कमाई करके बॉलीवुड की फिल्मों को आईना दिखाकर कर ही दी है.

भारतीय हीरोइंस का जलवा

इस महोत्सव की स्पॉन्सर लॉरियल है इसलिए इसकी ब्रांड एम्बेसेडर ऐश्वर्या रॉय का यहां होना तो लाजिमी है, इसके अलावा दीपिका पादुकोण भी इस समारोह में भारतीय प्रतिनिधि के तौर पर हिस्सा लेने के लिए पहुंच गई हैं.

deepika in cannes

बॉलीवुड की सबसे स्टाइलिश अभिनेत्री सोनम कपूर के स्टाइल के बिना भला कान की रौनक कैसे पूरी हो सकती है. प्रियंका चोपड़ा भले ही ग्लोबल स्टार बन चुकी है, लेकिन कान का रास्ता अब तक उनके लिए दूर ही है.

फ्रेंच डाइरेक्टर ऑरनॉड की फिल्म 'इस्माइल्स घोस्ट' इस समारोह की ओपनिंग फिल्म है. भारत की तरफ से संजय लीला भंसाली की फिल्म 'देवदास' 20 मई को एक बार फिर इस समारोह का अतिरिक्त आकर्षण बनेगी. इससे पहले साल 2002 में भी इस फिल्म का स्पेशल स्क्रीनिंग कान में किया जा चुका है.

ऐश और कान कंट्रोवर्सी 

सबसे पहले बात ऐश्वर्या रॉय बच्चन की. ऐश पिछले 15 सालों से लॉरियल के ब्रांड अम्बेसेडर के रूप में इस समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं. लेकिन इस दरम्यान वो कई बार अपने ड्रेस और लुक के कारण विवादों में भी आ गई.

2003 में ऐश ने अपनी एंट्री पैरेट कलर की साड़ी पहन कर की. जिसे डिज़ाइनर नीता लुल्ला ने डिज़ाइन किया था. लेकिन ऐश इंडिया को रिप्रेजेंट करने के चक्कर में वर्स्ट ड्रेस लिस्ट में शामिल हो गईं.

साल 2012 में जब मां बनने के बाद ऐश्वर्या इस समारोह में शामिल हुई तो अपने बढ़े वजन के कारण मीडिया के निशाने पर आ गईं. ऐश्वर्या के बचाव में जब अभिषेक बच्चन सामने आए तो मीडिया ने उनकी भी खूब फजीहत की.

साल 2016 में ऐश अपने पर्पल लिपस्टिक के कारण चर्चा में आई. इस साल इस समारोह में उनकी फिल्म 'सरबजीत' की स्क्रीनिंग की गई थी और फिल्म के मिले जबरदस्त रेस्पॉन्स से ऐश शायद कुछ ज्यादा ही उत्साहित हो गई.

‘सरबजीत’ की स्क्रीनिंग के मौके पर रेड कार्पेट पर होठों पर बैंगनी लिपस्टिक लगाए नजर आईं. लेकिन ऐश्वर्या के ये लुक उनके फैंस को कुछ खास पसंद नहीं आया, इसलिए सोशल मीडिया पर उनके लिपस्टिक के कलर को लेकर काफी चर्चा हुई और जमकर किरकिरी भी हुई.

aish-cannes-purple

कान 2016 में ऐश्वर्या की ये परपल लिपिस्टक सबसे ज्यादा चर्चा में रही थी, इसके लिए उन्हें खूब ट्रोल किया गया

लोगों ने उनके इस चुनाव का खूब मजाक उड़ाया. किसी ने ट्विटर पर लिखा कि यह उनका सबसे खराब निर्णय था तो किसी ने यह कहते हुए खिल्ली उड़ाई कि एसियन पेंट्स अब पर्पल कलर इंट्रोड्यूस कर रहा है.

सोनम ने ऐश का कहा था आंटी

साल 2009 में सोनम कपूर को लो रियल ने सोनम कपूर को अपने भारतीय चेहरे के रूप में पेश किया. कंपनी की तरफ से सोनम को भरोसा दिलाया गया कि वो कान के रेड कार्पेट पर ऐश्वर्या के साथ वॉक करेगी.

लेकिन ऐश को ये पसंद नहीं आया और उन्होंने इस पर अपना वीटो लगा दिया जिसके बाद सोनम कपूर को रेड कार्पेट पर चलने से रोक दिया गया. जाहिर है इससे नाराज सोनम और ऐश के बीच जबरदस्त कोल्ड वॉर शुरू हो गया.

सोनम को किया साइडलाइन

ऐसा कहा जाता है कि ऐश्वर्या-सोनम द्वारा खुद को आंटी कहे जाने से नाराज थीं, इसलिए उन्होंने सोनम को कान में अपनी अहमियत जताने के लिए उन्हें नीचा दिखाया. इसी साल कैटरीना कैफ भी ऐश के निशाने पर रहीं.

दुनिया भर की नजरें रहेंगी

ऐश कान में भारतीय परीतिनिधि के तौर पर खुद के साथ किसी और के वजूद को स्वीकार करना नहीं चाहती. इस साल ऐश और सोनम के साथ दीपिका पादुकोण भी शामिल है. शायद ऑर्गनाइजर्स को भारतीय सुंदरियों की इस प्रतिद्वंद्विता का अंदाजा पहले से ही है.

WhatsApp Image 2017-05-17 at 10.07.29 PM

इसलिए उन्होंने शेड्यूलिंग इस तरह की है ताकि रेड कार्पेट पर इनका आमना-सामना ही ना हो. खबरों के मुताबिक दीपिका पादुकोण 17-18 मई, ऐश्वर्या राय 19-20 मई  और सोनम कपूर 21-22 मई को रेड कार्पेट पर चलेंगी.

इससे साफ है कि इस महोत्सव में मंच की साझेदारी को लेकर इन सुन्दरियों के बीच जबरदस्त रस्साकशी है. हालांकि दीपिका पादुकोण ने हाल ही में ऐश्वर्या की तारीफों के खूब कसीदे पढ़े थे, लेकिन ऑर्गनाइजर्स पिछले अनुभवों के कारण कोई जोखिम उठाने को तैयार नहीं.

बहरहाल, इस महोत्सव में भारतीय प्रतिनिधित्व करने वाली सुंदरियां अब तक तो भारत का नाम रोशन करने से ज्यादा विवादों के जरिए ही सुर्खियां बटोरती रही हैं. इस साल सब ठीक-ठाक गुजर जाए, आयोजक तो यही कामना कर सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi