S M L

खराब फिल्में बनाने के लिए रामू को पैसा कौन देता है?

सरकार 3 के एवरेज रिव्यूज ने साबित कर दिया है कि राम गोपाल वर्मा का फिल्मी करियर अब दांव पर है, क्या आगे से अमिताभ उनपर भरोसा कर पाएंगे?

Hemant R Sharma Hemant R Sharma Updated On: May 13, 2017 07:02 AM IST

0
खराब फिल्में बनाने के लिए रामू को पैसा कौन देता है?

रामगोपाल वर्मा से बॉलीवुड को एक उम्मीद थी सरकार 3. लेकिन इस फिल्म के खराब रिव्यू आने के बाद ये उम्मीद भी अब टूट गई है. सवाल ये है कि क्या अब रामगोपाल वर्मा को फिल्में बनानी बंद कर देनी चाहिए?

वैसे आप सोच सकते हैं कि ये सवाल उठाने वाले हम होते कौन हैं? प्रड्यूसर का पैसा है वो जैसे चाहे उसमें आग लगवाएं. बात पैसे के दुरुपयोग के हिसाब से ठीक है. लेकिन रामगोपाल वर्मा फिल्म और मनोरंजन के नाम पर दर्शकों से जो दगा करते हैं, उसका क्या? हम इसलिए सवाल उठा रहे हैं कि जो भी दर्शक सरकार 3 देख चुके हैं वो तो अपना पैसा रामू से वापस नहीं ले सकते. उन्हें जी भरकर कोस तो सकते हैं और अगर रामू के इन कारनामों पर कोई सवाल उठाएगा नहीं तो राम गोपाल वर्मा इसी तरह 'आग' बनाते रहेंगे. और इस आग में जलेंगे वो दर्शक जो रामू की फिल्में देखने इसलिए चले जाते हैं कि हो सकता है इस बार उनमें कोई तो सुधार आया हो.

पढ़िए : Sarkar 3 Review-इस सरकार को कहानी ही गिराती है

सरकार 3 के रिव्यू खराब हैं. जो लोग इस फिल्म को देखकर आ गए हैं वो सिरदर्द की गोलियां खा रहे हैं. सिर का दर्द तो खत्म हो जाएगा लेकिन जो गुस्सा रामू पर आ रहा है वो उसे कैसे जाहिर करें? रामू का तो सही है जो जी में आया ट्वीट कर दिया. किसी को गाली दे दी, किसी के बारे में किसी भी हद तक निकल गए और अपनी भड़ास निकालकर खबरों में आ गए.

वर्मा ने पिछले कुछ वक्त से जो भी ट्वीट्स किए हैं उनसे ये तो हर कोई मान बैठा है कि अब वो अपना दिमागी संतुलन खो बैठे हैं. शिष्टाचार भूल बैठे हैं और उन्हें किसी की बात का कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन वो ये जरूर जान लें कि अब वो वक्त चला गया है कि लोग चुपचाप उनकी खराब फिल्में देखते रहेंगे और कुछ कहेंगे ही नहीं.

पढ़िए- अकेले राम गोपाल वर्मा ले डूबे सभी को

जमाना सोशल मीडिया का है और खुद को फिल्म मेंकिग के बादशाह समझने वाले रामू ये जान लें कि इस बार उनको पर्सनल नहीं प्रोफेशनल कारणों से ट्रोल किया जा रहा है. लोग उनके बारे में अवेयरनेस फैला रहे हैं कि जिसने सरकार 3 देखने की गलती कर ली है वो तो कर चुके, दूसरे इस गलती से बचें और अपना वक्त और पैसा दोनों बचाएं.

सवाल इसलिए भी गहरा हो जाता है कि राम गोपाल वर्मा को स्टार ऑफ द मिलेनियम अमिताभ बच्चन का सपोर्ट मिला हुआ है. लोगों को ज्यादा हैरानी इसी बात पर है कि पिछले कुछ सालों में जब रामगोपाल वर्मा ने प्रड्यूसर्स का पैसा डुबाया है और उनको मुंबई से भागकर हैदराबाद शिफ्ट होना पड़ा था तो फिर अमिताभ ने उनकी किस काबिलियत पर भरोसा करके उन्हें सरकार 3 बनाने की मंजूरी दे दी. ये बात जरूर ध्यान में रख लीजिए कि अमिताभ बच्चन की कंपनी एबी कॉर्प इस फिल्म की प्रड्यूसर है.

शायद इसलिए अमिताभ बच्चन के सरकार 3 के प्रमोशन को ध्यान में रखते हुए रामगोपाल वर्मा को एक प्रमोशनल इंटरव्यू भी करने का मौका दे दिया, इस इंटरव्यू में रामगोपाल वर्मा ने अमिताभ से इस तरह के सवाल पूछ लिए हैं जैसे कि पिछले पचास साल में अमिताभ ने किसी बड़े से बड़े जर्नलिस्ट तक ने नहीं पूछे.

रामू ने इंटरव्यू में उन्हें सबसे बड़ा झूठा करार दे दिया. रामगोपाल वर्मा के सवालों से उन्हें झुंझलाहट होने लगी. अमिताभ की शक्ल और उनकी हाइट को लेकर रामू ने जो सवाल किए अमिताभ ने गुस्से में उन्हें मूखर्तापूर्ण तक करार दे दिया. यानी रामू ने अपने तीखे सवालों से अमिताभ को आइना दिखाने की कोशिश की और अमिताभ को नाराज करने में वो सफल भी हो गए. इस इंटरव्यू में रामू को देखकर साफ कहा जा सकता था कि ये वो ही रामू हैं जो आए दिन किसी ना किसी के खिलाफ कीचड़ उछालते रहते हैं. ऐसा ही वो अमिताभ के साथ भी कर रहे हैं.

मीडिया अब इस तरह के इंटरव्यू स्टार्स के साथ नहीं करता. उसकी अपनी मजबूरियां हैं लेकिन इस इंटरव्यू को देखकर लगता है कि रामू ने जितना अच्छा ये इंटरव्यू किया वैसी फिल्म उन्होंने नहीं बनाई है. काश, वो अमिताभ से इसी तरह का काम करवाने में सफल होते.

खबरें छपी थीं कि रामगोपाल वर्मा ने सरकार 3 को इतना बड़ा बना दिया था कि अमिताभ ने उनसे फिल्म की लंबाई कम करने को कहा था. इससे ये बात साबित हो जाती है कि रामू की फिल्म पर कोई खास पकड़ नहीं थी इसलिए वो कुछ भी बनाते गए और बाद में इसका रिजल्ट लंबी फिल्म के रुप में सामने आया.

रामू पर पिछले कुछ सालों में स्क्रिप्ट चुराने के कई मामले दर्ज कराए गए हैं, इसमें से कुछ में उन्हें कोर्ट से आदेश भी मिले हैं. सरकार 3 के लेखक ने भी उन पर चोरी का आरोप लगाया तो कोर्ट ने उन्हें फिल्म दिखाने का आदेश दिया. डिपार्टमेंट की स्क्रिप्ट की चोरी का आरोप एक और लेखक ने उन पर लगाए थे. रामू ने वैसे इन सब आलोचनाओं के बाद ये ऐलान भी कर दिया था कि वो स्क्रिप्ट्स चुरा लेते हैं.

तो इस बात से ये पता चल ही जाता है कि रामू के पास अपना कुछ भी नहीं है ऐसे में चुराए हुए आइडिया से तो जो फिल्में बनेंगी रामू क्या उनके साथ न्याय कर पाएंगे. बॉलीवुड में आज जहां बाहुबली जैसी फिल्मों ने इंडस्ट्री को नया स्तर दिया है जिसमें अब सरकार 3 जैसी फिल्मों के लिए शायद ही कोई जगह बची है. इसलिए रामू को एक बार फिर से खुद को साबित करना पड़ेगा, नहीं तो उनके नाम पर अब फिल्में चलना बेहद मुश्किल हो सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi