S M L

मैनिक्विन का क्रेज: फिगर के चक्कर में बीमारियों को बुलावा

मैनिक्विवन के फिगर को फॉलो करना बड़ी बीमारियों को न्यौता दे सकता है.

Ankita Virmani Updated On: May 17, 2017 03:38 PM IST

0
मैनिक्विन का क्रेज: फिगर के चक्कर में बीमारियों को बुलावा

क्या आप भी मैनिक्विन देखकर होती हैं अट्रैक्ट? क्या आप भी चाहती हैं मैनिक्विन जैसा परफेक्ट फिगर? क्या आप भी खुद को फिट करना चाहती हैं मैनिक्विन पर टंगी हुई हुई ड्रेस में. तो ये रिपोर्ट आपके लिए है.

बेजान पुतले आदर्श शरीर की कल्पना तो बन गए. लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा कि क्या ये फिगर एक आदर्श फिगर हैं भी या नहीं? हमने चुपचाप बस ये मान लिया कि सुंदर दिखना मतलब पतला होना है, पतला भी जीरो फिगर वाला.

क्या है सच? क्या कहती है स्टडी?

यूनिवर्सिटी आॅफ लिवरपूल की नई स्टडी के मुताबिक फीमेल मैनिक्विन आम तौर पर अंडरवेट फीमेल का फिगर दर्शाते हैं. जी हां! आपके मनपसंद ब्रैंड्स पर लगे मैनिक्विन अनुचित और नायाब शरीर के आदर्शों को पेश करते हैं. और यहीं है आपके लिए चिंता की वजह.

girl2

भारत में आमतौर पर जितने भी मैनिक्विनस लगाए जाते हैं उनका फिगर 34-25-36 होता है. मैनिक्विनस की दुनिया में इसे 8 नंबर कहा जाता है.

लिवरपूल की स्टडी के मुताबिक 100 प्रतिशत मैनिक्विन अंडरवेट महिला फिगर को रिप्रेजेंट करती है. जबकि मेल मैनिक्विन का केस इससे काफी अलग है. मेल मैनिक्विन में सिर्फ 8 प्रतिशत मैनिक्विन अंडरवेट मेल को दर्शाते हैं.

क्यों नहीं बनते मोटे मैनिक्विन?

दुकान या मॉल पर लगा मैनिक्विन आपको सिर्फ अपनी तरफ आकर्षित कर अपना माल बेचना चाहता है. फर्स्टपोस्ट ने इस मामले पर कुछ लोागों से बात की, जानिए...

कॉन्सेप्ट मैनिक्विन की नवनीत कहती हैं जो अच्छा दिखता है, वो बिकता है. और उनकी सबसे ज्यादा बिक्री 8 नंबर मैनिक्विन की ही होती है.

दिल्ली के मालवीय नगर के एक दुकानदार का कहना है कि मोटे मैनिक्विन इसलिए नहीं लगाए जाते क्योंकि अगर कोई महिला मोटी है तो वो कभी नहीं चाहेगी कि वो ऐसी दिखे, जबकि पतले मैनिक्विन को देखकर उसे लगता है कि वो भी ऐसी हो सकती है.

वहीं राजौरी गार्डन के दुकानदार ने बताया कि हमारे लिए बेचना आसान होता है अगर हमारा प्रोडक्ट परफेक्ट शेप में दिखता है.

girl1

क्यों है आपके लिए चिंता?

मैनिक्विन पर टंगी ड्रैस पर नजरें टिकाए आपने जिद तो ठान ली उस फिगर को पाने की. लेकिन आपने क्या ये जानने की कोशिश की कि वो फिगर आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है?

स्टडी कहती है कि ये गलत खाने पीने की आदतों को बढ़ावा देता है. इतना ही नहीं. एक आदर्श फिगर को पाने की जिद महिलाओं में बढ़ते डिप्रेशन का एक बड़ा कारण है.

आपने बिना सोचे-समझे बिना किसी डॉक्टर या न्यूट्रीशनिस्ट को संपर्क किए जिद तो ठान ली मैनिक्विवन फिगर पाने की पर क्या आपको पता है ये आपके मेन्सट्रुअल साइकल और प्रेगनेंसी  के लिए खतरनाक हो सकता है.

फिट रहना अच्छी बात है लेकिन इस काल्पनिक फिगर को पाने के लिए पागल होना कोई समझदारी की बात नहीं.

देखें वीडियो-

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi