विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पेट्रोल, डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया जाना चाहिए: जयपाल रेड्डी

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के विचारों का समर्थन करते हुए रेड्डी ने कहा कि राज्य सरकारों को इन ईंधनों पर वैट कम करना चाहिए

Bhasha Updated On: Oct 17, 2017 07:37 PM IST

0
पेट्रोल, डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया जाना चाहिए: जयपाल रेड्डी

पूर्व केंद्रीय मंत्री एस. जयपाल रेड्डी ने सोमवार को कहा कि पेट्रोल, डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया जाना चाहिए. इससे इनके दाम को लेकर अधिक ‘विश्वसनीयता’ होगी.

पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के विचारों का समर्थन करते हुए रेड्डी ने कहा कि राज्य सरकारों को इन ईंधनों पर वैट कम करना चाहिए.

पूर्व पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री रेड्डी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘मैं इस मांग का समर्थन करता हूं कि राज्य सरकारों को अपना कर घटाना चाहिए. लेकिन दूसरी तरफ केंद्र सरकार जब अपने कर में वृद्धि कर रही हो तो तब वह इस बोझ को राज्य सरकारों पर नहीं डाल सकते हैं अथवा उन पर दोष नहीं मढ सकते हैं.’

प्रधान ने हाल ही में सभी राज्य सरकारों से पेट्रोल, डीजल पर वैट घटाने का आग्रह किया है ताकि इनके दाम में कुछ कमी लाई जा सके.

40 रुपए होने चाहिए थे पेट्रोल के दाम

दूसरी तरफ रेड्डी ने कहा कि अंतरर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के मौजूदा दाम को देखते हुए पेट्रोल का दाम 40 रुपए के आसपास होना चाहिए. उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 में जब तत्कालीन यूपीए सरकार सत्ता में आई थी तो अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम 140 डालर प्रति बैरल तक पहुंच गया था और जब वह पेट्रोलियम मंत्री बने तब यह 110 डालर प्रति बैरल पर था.

रेड्डी ने कहा कि वर्तमान में कच्चे तेल 50 से 54 डालर के प्रति बैरल के बीच काफी लंबे समय से टिका हुआ है. इस लिहाज से भारत जैसे देश के लिये जहां कच्चे तेल का भारी मात्रा में आयात किया जाता है, मौजूदा अंतरराष्ट्रीय बाजार परिदृश्य काफी अनुकूल बना हुआ है. लेकिन केंद्र की एनडीए सरकार के कदमों की वजह से यह ‘अभिशाप’ बन गया है.

उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक पर्यटन बुकलेट में ताजमहल को छोड़ दिए जाने पर कांग्रेस के इस वरिष्ठ नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस बारे में स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi