विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

भारत में बनी कारों का निर्यात घटा, तिपहिया का बढ़ा

अप्रैल से अक्तूबर तक के 7 महीने में यात्री कारों का निर्यात 1.97 फीसदी घटकर 3,33,483 वाहन रहा. इस दौरान तिपहिया निर्यात में 10 फीसदी की बढ़ोतरी हासिल की गई है

Bhasha Updated On: Nov 12, 2017 02:25 PM IST

0
भारत में बनी कारों का निर्यात घटा, तिपहिया का बढ़ा

देश में बनी कारों के निर्यात में कमी आई है. अक्टूबर में भारत से यात्री कारों (पैसेंजर व्हीकल) का निर्यात 15.58 फीसदी घटकर 46,300 इकाई रह गया. अगर सभी तरह के छोटे यात्री वाहनों के निर्यात की बात की जाए तो अक्टूबर 2017 में यह एक साल पहले के मुकाबले 19 फीसदी से अधिक घटकर 54,510 इकाई रह गया.

हालांकि, इस दौरान तिपहिया निर्यात में 10 फीसदी की बढ़ोतरी हासिल की गई है.

चालू वित्त वर्ष के दौरान अप्रैल से अक्टूबर तक के सात महीने की अगर बात की जाए तो इस दौरान कुल यात्री कार निर्यात 4.13 फीसदी घटकर 4,16,602 इकाई रह गया. लेकिन इस दौरान यात्री और सामान ढोने वाले तिपहियों का निर्यात करीब 18 फीसदी बढ़कर 2,09,971 इकाई तक पहुंच गया.

भारतीय वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के आंकड़ों के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष के अप्रैल से अक्टूबर तक के सात महीने में अकेले यात्री कारों का निर्यात 1.97 फीसदी घटकर 3,33,483 वाहन रहा. पिछले साल इसी अवधि में 3,40,198 यात्री कारों का निर्यात किया गया था.

भारत से कारों का निर्यात करने वाली प्रमुख कंपनियों में मारुति सुजुकी, फॉक्सवैगन, जनरल मोटर्स, हुंडई मोटर, फोर्ड और निसान मोटर शामिल हैं. मौजूदा वित्त वर्ष की पहली छमाही में मारुति सुजुकी ने 54,008 कारों का निर्यात किया. इस लिहाज से वह पहले स्थान पर रही.

सिर्फ कारों का नहीं अन्य वाहनों का निर्यात भी घट रहा है

सियाम के सूत्रों के अनुसार कई कारणों के चलते सिर्फ कारों का ही नहीं अन्य वाहनों का निर्यात भी घट रहा है. वित्त वर्ष 2017-18 में अप्रैल-अक्टूबर की बात की जाए तो वाणिज्यिक (कमर्शियल) यात्री वाहन, माल ढुलाई वाहन का निर्यात घटा है. इस दौरान भारत से वाणिज्यिक वाहनों का कुल निर्यात 28.05 फीसदी घटकर 47,650 इकाई रह गया. जो कि पिछले वर्ष इसी अवधि में 66,227 इकाई रहा था. इस सेगमेंट में माल ढुलाई और हल्के यात्री वाहनों का निर्यात कम हुआ.

औद्योगिक जगत के जानकारों के अनुसार भारत से वाहनों के निर्यात में कमी की कई वजह हैं. सियाम सूत्रों ने कहा कि संबद्ध बाजारों में आर्थिक और राजनीतिक घटनाक्रम के साथ-साथ विनिमय दरों (एक्सचेंज रेट) में बदलाव भी इसका बड़ा कारण हो सकता है.

केवल अक्टूबर महीने में यात्री वाहन खंड का कुल निर्यात 19.32 फीसदी घटकर 54,510 वाहन, वाणिज्यिक वाहन खंड का कुल निर्यात 25.44 फीसदी घटकर 7624 इकाई रह गया. हालांकि, देश में निर्मित तिपहिया वाहनों का निर्यात अक्टूबर 2017 में लगभग 10 फीसदी बढ़कर 30,946 इकाई और अप्रैल से अक्टूबर 2017 के सात महीने में करीब 18 फीसदी बढ़कर 2,09,971 तिपहिया वाहनों का निर्यात किया गया. तिपहिया वाहन बनाने वाली प्रमुख कंपनियों में बजाज ऑटो, टीवीएस, महिंद्रा और टाटा मोटर्स आदि शामिल हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi