विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

नोटबंदी: 20000 से अधिक IT रिटर्न की होगी कड़ाई से जांच

इन मामलों में नोटबंदी से पहले और बाद में उनके लेन-देन का ब्यौरे का आपस में तालमेल नहीं बैठ रहा है

Bhasha Updated On: Nov 06, 2017 09:51 PM IST

0
नोटबंदी: 20000 से अधिक IT रिटर्न की होगी कड़ाई से जांच

आयकर विभाग ने नोटबंदी से पहले और उसके बाद आय में विसंगति को देखते हुए 20,572 आयकर रिटर्न को ‘विस्तृत जांच’ के लिए चुना है. आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. आयकर विभाग ने ऐसे एक लाख मामलों की पहचान की है जिसमें कथित रूप से कर चोरी का अंदेशा है.

सूत्रों के अनुसार 20,572 कर रिटर्न को विस्तृत जांच के लिए चुना गया है. इन मामलों में नोटबंदी से पहले और बाद में उनके लेन-देन का ब्यौरे का आपस में तालमेल नहीं बैठ रहा है. आयकर विभाग में इस संबंध में एक जांच प्रक्रिया चलाई जा रही है जिसके बाद कर अधिकारी इस बात को लेकर सुनिश्चित हो जाता है कि जो रिटर्न दाखिल की गई है उसमें रिटर्न दाखिल करने वाले ने कोई कर चोरी तो नहीं की है.

संदिग्ध खातों की भी हुई पहचान

आयकर विभाग ने कालेधन और विदेशों में रखे गये धन का पता लगाने के लिए इस साल 31 जनवरी को ‘आपरेशन क्लीन मनी’ का पहला चरण शुरू किया था. सरकार ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 और 1,000 रुपए के नोट चलन से वापस लेने के फैसले के बाद यह कदम उठाया.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार नोटबंदी के बाद कर अधिकारियों ने 23.22 लाख बैंक खातों में 3.68 लाख करोड़ रुपए की संलिप्तता वाले 17.73 लाख संदिग्ध मामलों की पहचान की है. इन मामलों में अब तक 16.92 लाख बैंक खातों के बारे में 11.8 लाख लोगों से आनलाइन जवाब मिला है.

आयकर विभाग 9 नवंबर 2016 से लेकर इस साल मार्च तक 900 खोज अभियान चला चुका है. इन अभियानों में उसने 636 करोड़ रुपए की नकदी सहित 900 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है.

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक इस जांच अभियान से 7,961 करोड़ रुपए की अघोषित संपत्ति की घोषणा की गई. इसमें कहा गया है कि इस दौरान विभाग ने 8,239 सर्वे भी किए जिसमें 6,745 करोड़ रुपए के कालेधन का पता चला.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi