कर्नाटक में कड़ी सुरक्षा के बीच मनाई गई ‘टीपू जयंती’

विपक्ष और कुछ हिंदू संगठनों ने कोडागु जिले में बंद का आह्वान किया था इसके मद्देनजर जिले में शनिवार सुबह तक धारा 144 लागू की गई है

Bhasha

18वीं शताब्दी में तत्कालीन मैसूर राज्य के विवादित शासक टीपू सुल्तान की जयंती आज यहां कड़ी सुरक्षा के बीच मनाई गई. इस मौके पर कर्नाटक के कई हिस्सों में प्रदर्शनों का भी आयोजन किया गया.

टीपू की विरासत को लेकर बंटी हुई राय और बढ़ते सियासी पारे के बीच विपक्षी बीजेपी, कुछ हिंदूवादी संगठनों और व्यक्तियों ने प्रदेश सरकार द्वारा टीपू की जयंती के कार्यक्रमों के आयोजन के विरोध में प्रदेश भर में प्रदर्शन किए.


कर्नाटक सरकार की तरफ से जिला मुख्यालयों पर कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था जिनमें जिले के प्रभावी मंत्रियों और अन्य ने टीपू की विरासत की प्रशंसा की. इस मौके पर सुरक्षा के मद्देनजर 54 हजार पुलिसकर्मियों के अलावा रैपिड एक्शन फोर्स और कर्नाटक राज्य रिजर्व पुलिस की प्लाटून को तैनात किया गया था.

कोडागु जिले में राज्य परिवहन की बस पर पथराव किया गया और स्थानीय बीजेपी विधायक अप्पाचू रंजन समेत 100 लोगों को हिरासत में लिया गया.

विपक्ष और कुछ हिंदू संगठनों ने कोडागु जिले में बंद का आह्वान किया था इसके मद्देनजर जिले में शनिवार सुबह तक धारा 144 लागू की गई है.