JNU में बिरयानी बनानी पड़ी महंगी, 4 छात्रों पर जुर्माना

चार छात्रों पर 27 जून को एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक में बिरयानी बनाने और विरोध प्रदर्शन करने को लेकर जुर्माना लगाया गया है

FP Staff

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में अब एक और नया विवाद खड़ा हो गया है. यहां चार छात्रों पर 27 जून को एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक में बिरयानी बनाने और विरोध प्रदर्शन करने को लेकर जुर्माना लगाया गया है. प्रशासन की ओर से इसे अनुशासन का उल्लंघन बताया गया है. एबीवीपी का कहना है कि छात्रों ने जो बिरयानी बनाई थी वो बीफ की थी. हालांकि नेटिस में बीफ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया गया था. छात्रों पर छह हजार से लेकर दस हजार के बीच जुर्माना लगाया गया है. छात्रों को वार्निंग दी गई है कि भविष्य में इस तरह की चीजें न की जाएं.

आठ नवंबर को भेजे गए नोटिस में चीफ प्रॉक्टर कौशल कुमार ने कहा है कि जुर्माना 10 दिन के भीतर देना होगा और अगर ऐसा नहीं किया जाता है, तो छात्रों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. चीफ प्रॉक्टर कौशल कुमार द्वारा जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि वाइस-चांसलर या फिर अथॉरिटी का कोई अन्य सदस्य अगर किसी को अनुशासन का उल्लंघन करते पाएगा, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. प्रोक्टोरियल इनक्वायरी में आपको (छात्रों) एडमिन ब्लॉक के सामने सीढ़ियों पर खाना (बिरयानी) खाने का दोषी पाया गया है.


चार में से तीन छात्र चेपल शेरपा, आमिर मालिक और मनीष कुमार पर छह हजार का जुर्माना लगाया गया है. और जेएनयू स्टूडेंट यूनियन के पूर्व जनरल सेक्रेटरी सतरूपा चक्रवर्ती पर दस हजार रुपए का फाइन ठोका गया है.